राजस्थान रोडवेज की बसों में बिना टिकट यात्रा करने पर वसूला जाएगा 10 गुना किराया

Deepakshi Sharma, Last updated: Thu, 16th Sep 2021, 4:02 PM IST
  • राजस्थान रोडवेज की बसों में यदि कोई यात्री बेटिकट यात्रा करेगा तो पकड़े जाने पर उस पैसेंजर को 10 गुना किराया भरना होगा. परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने इससे जुड़े बिल को पास करा लिया है. सरकार ने प्रतियोगी परीक्षाएं देने वाले उम्मीदवारों को बसों में फ्री यात्रा कराने का फैसला लिया है.
बिना टिकट के राजस्थान रोडवेज की बसों में यात्रा नहीं कर पाएंगे यात्री

जयपुर. अब राजस्थान रोडवेज की बसों में बिना टिकट के यात्रा करना भारी पड़ने वाला है. दरअसल बुधवार के दिन राज्य विधानसभा में राजस्थान राज्य पथ परिवहन सेवा विधेयक 2021 को सहमित से पास कर दिया गया. इस बिल के पास होने के बाद जो कोई भी रोडवेज की बसों में बिना टिकट के यात्रा करेगा उस यात्री से किराया राशि के साथ-साथ किराया राशि का 10 गुना या फिर 2 हजार रुपये जो भी दोनों में से कम हो वसूला जाएगा. इस बिल को पेश करने का काम परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने किया था.

सदन में विधयक पर हुई चर्चा का जवाब देते हुए खाचरियावास ने कहा कि इस बिल के आधार पर राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम बसों में बिना टिकट यात्रा करने वालों पर रोक लगाई जाएगी. परिवहन मंत्री ने अपनी बात में कहा कि राजस्थान रोडवेज के इतिहास में आजादी के बाद ही पहली बार वर्तमान सरकार ने एक ही बार में 900 नई बसें खरीदकर बस संचालन को मजबूत करने का काम किया है. साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि आगे अब 500 बसों को खरीदने की तैयारी है. साथ ही परिवहन मंत्री ने ये भी आरोप लगाया कि गत सरकार में राजस्थान रोडवेज को बंद करने की तैयारी की जा चुकी थी.

मां ने चंद रुपयों के लिए हैवान को बेच दी 15 साल की बेटी, डेढ़ साल तक किया रेप, गर्भवती हुई तो...

साथ ही खाचरियावास ने ये भी कहा कि बसों के किराये में किसी भी तरह की बढ़त नहीं हुई है. साथ ही प्रतियोगी परीक्षाएं देने वाले उम्मीदवारों को बसों में फ्री यात्रा कराने का फैसला भी लिया गया है. सरकार ने कोरोना के वक्त पैदल चल रहे हजारों लोगों को उनके घर तक पहुंचाने का काम किया था.

राजस्थान के सभी स्कूलों की होगी ग्रेडिंग, पेरेंट्स को ऐसे होगा फायदा

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि राजस्थान रोडवेज में इस वक्त 3100 रोडवेज की और 800 अनुंबध की बसें मौजूद है. लेकिन कोरोना काल में 3200 बसों को ही चलाया जा रहा है. राजस्थान रोडवेज पिछले कई सालों से घाटे में जूझ रही है. कई बार कर्मचारियों को सैलरी तक नहीं मिल पा रही है. साथ ही जो कर्मचारी रिटार्यड हो चुके हैं वो अपने बचे हुए भुगतान के लिए तरस रहे हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें