सचिन पायलट गुट के कद्दावर जाट MLA हेमाराम चौधरी के इस्तीफे से हिली गहलोत सरकार

Smart News Team, Last updated: 18/05/2021 06:14 PM IST
  • राजस्थान में सचिन पायलट गुट के कद्दावर जाट नेता और छठी बार के विधायक हेमाराम चौधरी ने सीएम अशोक गहलोत को इस्तीफा सौंपकर सूबे की राजनीति में हलचल मचा दी है.
सचिन पायलट के साथ हेमाराम चौधरी (फाइल फोटो)

जयपुर. कोरोना काल में राजस्थान की सियासत उस समय हिल गई जब कांग्रेस के कद्दावर जाट नेता, पूर्व मंत्री और नेता प्रतिपक्ष रहे विधायक हेमाराम चौधरी ने सीएम अशोक गहलोत को अपना इस्तीफा भेज दिया. सचिन पायलट गुट के कहे जाने वाले हेमाराम चौधरी पिछले विधानसभा चुनाव में बाडमेर की गुड़ामालानी सीट से छठी बार विधायक बनकर सदन में पहुंचे थे.

गौरतलब है कि हेमाराम चौधरी ने साल 2019 की 14 फरवरी को भी इस्तीफा दिया था लेकिन उस समय विधानसभा स्पीकर ने उनके इस्तीफे को स्वीकार नहीं किया था. ऐसे में अब उन्होंने एक बार सीएम गहलोत को इस्तीफा भेजकर जाहिर कर दिया है कि राजस्थान कांग्रेस में आंतरिक कलह अभी भी चल रही है.

राजस्थान में जाट समुदाय से आने वाले कद्दावर नेता हेमाराम चौधरी ने इस्तीफा भेजकर कहा है कि गहलोत सरकार की दुश्मनी उनसे हैं लेकिन अब वे अपने क्षेत्र की अनदेखी नहीं बर्दाश्त कर सकते. राजस्थान में नेता प्रतिपक्ष रह चुके हेमाराम चौधरी ने कहा कि वे गहलोत सरकार से इस्तीफा बेशक दे रहे हैं लेकिन कांग्रेस पार्टी को नहीं छोड़ेंगे.

कोरोना के चलते जयपुर से दुबई की सीधी फ्लाइट बंद, 10 ट्रेनों का संचालन भी हुआ रद्द

पायलट गुट के नेता हैं हेमाराम चौधरी

विधायक पद से इस्तीफा देने वाले हेमाराम चौधरी राजस्थान कांग्रेस में सचिन पायलट गुट से आते हैं. पिछले साल जब सचिन पायलट नाराज होकर सीएम गहलोत के खिलाफ खड़े हो गए थे तो उस समय हेमाराम चौधरी भी उनके साथ खड़े थे.

जयपुर में स्कूल की सराहनीय पहल: कोविड से माता-पिता की मौत पर तीन साल तक फीस माफ

पूर्व कैबिनेट मंत्री रह चुके हेमाराम का जाट समुदाय पर अच्छा असर बताया जाता है और लगातार 6 बार उनकी जीत इस बात को साबित भी करती है. फिलहाल उनका इस्तीफा स्वीकार होगा या नहीं, इसपर कोई भी बयान सामने नहीं आया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें