बेटे ने बेरहमी से पिता को मौत के घाट उतारा, बोला- अब्बा परेशान थे, जन्नत भेज दिया

Haimendra Singh, Last updated: Sun, 31st Oct 2021, 10:16 AM IST
  • राजस्थान में एक बेटे ने घर में सो रहे पिता की डंडा मारकर हत्या कर दी. पुलिस ने आरोपी बेटे को गिरफ्तार कर लिया है. पूछताछ में आरोपी ने बताया है कि पिता परेशान थे मैंने उन्हें जन्नत भेज दिया है.
राजस्थान में एक बेटे ने पिता के सिर में डंडा मारकर बड़ी बेरहमी से हत्या कर दी. ( सांकेतिक फोटो )

जयपुर. राजस्थान के सवाई माधोपुर से दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है जहां एक बेटे ने अपने पिता की बड़ी बेरहमी से हत्या कर दी. वारदात के समय पिता घर में ही सो रहे थे. हैरानी की बात है कि बेटे ने मर्डर करने के पीछे बड़ा ही अजीब कारण दिया है. पुलिस ने पिता को मौत के घाट उतारने वाले आरोपी से पूछताछ कि तो उसने बताया कि अब्बा परेशान थे इसलिए उन्हें जन्नत भेज दिया है. पुलिस हत्यारोपी से ऐसा जवाब सुनकर चौंक गई. राजस्थान पुलिस इस मामले की जांच में जुटी है.  

सवाई माधोपुर जिले के खंडार थाना क्षेत्र के छान कस्बे में शुक्रवार की दोपहर 2:30 बजे इब्राहिम घर पर सो रहा था. इब्राहिम के छोटे बेटे ने कुतुबुद्दीन ने घर में रखी लाठी उठाकर सोते पिता के सिर पर हमला कर दिया. हमले के बाद इब्राहिम के सिर से खून बहने लगा और चिल्लाते हुए वह बेहोश हो गया. चीख-पुकार सुनकर पड़ोसी भी मौके पर पहुंच गए. जिसके बाद मामले की सूचना पुलिस को दी गई. मौके पर मौजूद पड़ोसियों ने बताया कि कुतुबुद्दीन कहा रहा था कि अब्बा परेशान थे. मैने उन्हें जन्नत भेज दिया है.

10 साल की बच्ची से रेप, 32 दिन में फास्ट ट्रैक इंसाफ, मरने तक जेल में सड़ेगा दरिंदा

सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने इब्राहिम में अस्पताल में भर्ती कराया, लेकिन हालत बिगड़ने के बाद डॉक्टरों की टीम ने इब्राहिम को जयपुर के लिए रेफर कर दिया. इब्राहिम ने जयपुर पहुंचने से पहले ही दम तोड़ दिया. पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्डम के लिए भेज दिया. पुलिस ने घटना स्थल से कुतुबुद्दीन को गिरफ्तार कर लिया. पूछताछ में कुतुबुद्दीन ने अपना गुनाह कबूल कर लिया है. मिली जानकारी के अनुसार, कुतुबुद्दीन बार-बार यही कह रहा है कि अब्बा परेशान थे इसलिए मैने उन्हें जन्नत भेज दिया है. अब पुलिस यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि आरोपी कुतुबुद्दीन ने क्यो अपने अब्बा की हत्या कर दी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें