राजस्थान में खेत को पानी के लिए कांग्रेस गहलोत सरकार के खिलाफ डेरा-डंडा लेकर जमे किसान

Ankul Kaushik, Last updated: Wed, 6th Oct 2021, 6:38 PM IST
  • राजस्थान के श्रीगंगानगर जिले में किसान सिंचाई के पानी के लिए गहलोत सरकार के खिलाफ विरोध कर रहे किसानों का आंदोलन अब तेज हो गया है. किसानों ने अपनी मांगें पूरी नहीं होने के कारण अब इंदिरा गांधी नहर परियोजना के 620-RD पॉइंट पर कब्जा करने की चेतावनी दी है और इस पॉइंट पर डेरा-डंडा लेकर जमे हुए हैं.
राजस्थान के किसान खेत को पानी के लिए विरोध करते हुए

जयपुर. पिछले नौ दिनों से राजस्थान के श्रीगंगानगर जिले के किसान खेतों की सिंचाई के लिए पानी की आपूर्ति न होने के कारण विरोध कर रहे हैं. इसके साथ ही सैकड़ों किसान राजस्थान के बीकानेर जिले के इंदिरा गांधी नहर परियोजना के 620-RD पॉइंट पर डेरा डंडा लेकर गहलोत सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं. 27 सितंबर से शुरू हुया यह प्रदर्शन आज बुधवार को तेज हो गया यहां पर आंदोलनकारी किसानों ने घरसाना के उप-मंडल मजिस्ट्रेट कार्यालय का घेराव करते हुए ताला लगा दिया. इस दौरान बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी उसके अंदर ही मौजूद थे, किसान अपनी मांग पर डटे हुए हैं.

वहीं कानून-व्यवस्था न बिगड़े इसलिए 620-आरडी (बीकानेर) और घरसाना (श्रीगंगानगर) में पुलिस को तैनात किया गया है. इसके साथ ही स्थिति कंट्रोल में और शांत बानने के लिए अधिकारी प्रदर्शनकारी किसानों से बातचीत कर रहे हैं. किसानों की मांग है कि रबी की फसल के लिए सितंबर से मार्च के लिए सात बार पानी छोड़ जाया. क्योंकि इंदिरा गांधी नहर परियोजना से सरकार द्वारा तीन बार पानी देने का आश्वासन किसानों को दिया गया था.

CM गहलोत से देर रात बात करके माने राजस्व कर्मी, आंदोलन वापस लेने का किया ऐलान

इस पूरे मामले को लेकर अखिल भारतीय किसान सभा के सदस्य श्योपत मेघवाल ने कहा कि सरकार के साथ बातचीत चल रही है. हमारी एक ही मांग कि पानी सात बार छोड़ा जाए लेकिन अधिकारी तीन बार पानी छोड़ने पर अड़े हैं. अगर मांग पूरी नहीं हुई तो किसान बीकानेर जिले के घरसाना से 70 किमी दूर इंदिरा गांधी नहर परियोजना के 620-RD पॉइंट पर कब्जा करेंगे और खुद ही पानी छोड़ेंगे. क्योंकि हमारा आंदोलन पिछले नौ दिनों से शांतिपूर्ण तरीके से चल रहा है लेकिन सरकार नहीं सुन रही है.

खेतों की सिंचाई के लिए पानी की मांग को लेकर प्रदर्शन करते किसान

इसके साथ ही किसान नेता और पूर्व विधायक हेतराम बेनीवाल ने कहा कि 20 लाख से अधिक किसान सिंचाई के लिए इंदिरा गांधी नहर के पानी पर निर्भर हैं. सरकार कह रही है कि रबी की फसलों के लिए तीन बार पानी छोड़ा जाएगा जो काफी कम है. इस पानी में रबी की फसलें नहीं हो पाएंगी क्योंकि बारिश का पीन भी कम रहता है जिससे पहले ही खरीफ की फसल बर्बाद हो चुकी हैं. वहीं सरकार ने इस मामले पर कहा है कि इस नहर को पोंग बांध से पानी मिलता है लेकिन वहीं पानी की कमी है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें