गहलोत सरकार को बेरोजगारों की चेतावनी- नहीं मानी मांगे तो करेंगे आमरण अनशन

MRITYUNJAY CHAUDHARY, Last updated: Sat, 9th Oct 2021, 8:21 PM IST
  • राजस्थान बेरोजगार एकीकृत महासंघ ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सरकार को REET 2021 और SI Exam की जांच को और 21 सूत्रीय मांग नहीं मानाने पर आमरण अनशन पर जाने की चेतावनी दी है. राजस्थान बेरोजगार एकीकृत महासंघ के अध्यक्ष उपेन यादव ने बताया की अगर उनकी मांगे नहीं मानी गई तो वह 14 अक्टूबर को आमरण अनशन पर बैठेंगे.
गहलोत सरकार को बेरोजगारों की चेतावनी, बोले- नहीं मानी मांगे तो करेंगे आमरण अनशन (सोशल मीडिया)

जयपुर. राजस्थान बेरोजगार एकीकृत महासंघ ने शनिवार को प्रदर्शन करने के दौरान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सरकार को मांगे नहीं मानने पर आमरण अनशन पर जाने की चेतावनी दी है. इस प्रदर्शन के दौरान वहां पर उपस्थित राजस्थान बेरोजगार एकीकृत महासंघ के अध्यक्ष उपेन यादव ने कहा कि यदि उनकी 21 सूत्री मांगे नहीं मानी गई तो 14 अक्टूबर से आमरण अनशन करेंगे. साथ ही बताया कि यह आमरण अनशन शाहिद स्मारक पर किया जाएगा. हाल ही में हुए राजस्थान रीट और एसआई की परीक्षा में हुई गड़बड़ी को लेकर राजस्थान में परीक्षार्थी जांच और एग्जाम रद्द करने की मांग कर रहे है. 

महासंघ अध्यक्ष उपेन यादव ने बताया कि रीट परीक्षा में हुई गड़बड़ी, एसआई भर्ती परीक्षा में नकल मामलों को लेकर सीबीआई और मंत्रियों के बीच बैठक हुई थी. जिसमें विभिन्न मांगों को लेकर लिखित समझौता हुआ था. जिसे अभी तक पूरा नहीं किया गया. उन्ही मांगों को पूरा करने को लेकर वह आमरण अनशन करेंगे. साथ ही कहा कि प्रदेश के बेरोजगारों को लेकर हुई बैठक में लिखित समझौते को लेकर अभी तक कोई बिंदु तक लागू नहीं किया गया है. 

राजस्थान उपचुनाव: EC के निर्देश- सुबह 10 से शाम 7 तक हो सकेगा प्रचार

इसके साथ ही उपेन यादव ने बताया कि रीट परीक्षा और एसआई भर्ती परीक्षा में हुई गड़बड़ी की जांच सीबीआई से करवाने की बात कही. वहीं उन्हीने आगे कहा कि इसमें पाए गए दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए. इसके अलावा उन्होंने कहा कि जांच में जिन केन्द्रों की लापरवाही सामने आए उन परीक्षा केंद्रों की मान्यता रद्द की जाए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें