जयपुर : राजस्थान विश्वविद्यालय के शिक्षकों ने कोरोना में बढ़ाए मदद के हाथ

Smart News Team, Last updated: Sat, 8th May 2021, 1:49 PM IST
  • कोरोना के कारण राज्यों की वित्तिय स्थिति भी प्रभावित हो रही है . ऐसे में समाज के सभी वर्ग अपनी ओर से सरकार को वि​त्तिय मजबूती दे रहे हैं . जिससे सरकार कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ सके . प्रदेश की सबसे बड़ी जयपुर स्थित  राजस्थान यूनिवर्सिटी की ओर से 30 लाख रुपए से अधिक का चेक सौंपा गया है .
प्रतिकात्मक तस्वीर

कोरोना जैसी ​वैश्विक महामारी में आज समाज का हर तबका एक साथ खड़ा नजर आ रहा है . पहले आईएएस, फिर आरएएस एसोसिएशन की ओर से राजस्थान सरकार को मदद दी गई . ऐसे में अब राजस्थान विश्वविद्यालय के शिक्षक व कर्मचारी भी आगे आए हैं और उन्होंने भी अपने एक दिन का वेतन राज्य सरकार को सहायता के रूप में दिया है .

विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो राजीव जैन ने कोरोना विपदा में राज्य सरकार को सहायता के लिए 30 लाख 18 हजार 600 रुपए की सहायता राशि का चैक उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी को उनके निवास पर सौंपा है . इस मौके पर सिंडिकेट सदस्य प्रोफेसर एस एल शर्मा, रजिस्ट्रार केएम दूरियां व विश्वविद्यालय शिक्षक संघ के अध्यक्ष श्री राहुल चौधरी भी उपस्थित रहे . विश्वविद्यालय के जनसंपर्क अधिकारी भूपेंद्र सिंह शेखावत ने बताया कि हाल ही में कुलपति प्रोफेसर राजीव जैन के आह्वान पर विश्वविद्यालय के शैक्षणिक व अशैक्षणिक कर्मियों ने अपना एक दिन का वेतन इस महामारी से निपटने के लिए राज्य सरकार को सहायता के रूप में भेंट करने का निर्णय लिया था . इसी निर्णय के तहत राशि एकत्रित कर कुलपति की ओर से उच्च शिक्षा मंत्री को सौंपी गई है .

बता दें कि राजस्थान विश्वविद्यालय की ओर से कुलपति राजीव जैन की अध्यक्षता में गठित उच्च स्तरीय समिति की ओर से जयपुर शहर के बीचोंबीच अपने तीन महाविद्यालयों महाराजा, महारानी व राजस्थान कॉलेज को कोविड सेंटर के रूप में उपयोग में लिए जाने का प्रस्ताव भी राज्य सरकार के समक्ष रखा है . साथ ही इस महामारी से निपटने के लिए व्यापक जन जागृति के उद्देश्य से विभिन्न विशेषज्ञों की ओर से वेबीनार श्रृंखला के आयोजन का कार्य भी किया जा रहा है . इसी क्रम में पहली वेबीनार हाल ही विश्वविद्यालय के चिकित्सकों द्वारा कोरोना बचाव वह उससे जुड़ी चिकित्सा को लेकर आयोजित की गई .

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें