राजस्थान विवि ने बढ़ाई इंश्योरेंस आर्थिक सहायता राशि, स्टूडेंट्स को होंगे ये लाभ

Smart News Team, Last updated: Thu, 24th Dec 2020, 7:23 PM IST
  • दुर्घटना में घायल स्टूडेंट्स को 50 हजार रुपए और मृत्यु पर परिजनों को 6.50 लाख रुपए की सहायता दी जाएगी. गत वर्ष मृत्यु पर सहायता राशि 6 लाख रुपए थी. जिसमें अब 50 हजार रुपए की बढ़ौतरी की गई है. 
गुरुवार को इस योजना के संबंध में यूनाइटेड इंडिया इंश्योरेंस कंपनी के साथ समझौते पर विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार कजोडमल दूडिया ने हस्ताक्षर किए

जयपुर. राजस्थान विश्वविद्यालय ने विद्यार्थियों के दुर्घटना में घायल व मृत्यु की स्थिति में प्रदान की जाने वाली इंश्योरेंस आर्थिक सहायता राशि को बढ़ाकर छात्रों व उनके परिजनों को सौगात दी है. राजस्थान विश्वविद्यालय वर्तमान शैक्षणिक सत्र में अपने किसी भी स्टूडेंट्स की किसी दुर्घटना या आपदा में घायल होने की स्थिति में उसे पचास हजार रुपए की राशि चिकित्सकीय उपचार के लिए उपलब्ध करवाएगा. यदि दुर्घटना के उपरांत उपचार या उपचार से पूर्व छात्र की मृत्यु हो जाती है तो ऐसी स्थिति में उसके परिजनों को 6.50 लाख रुपए की सहायता प्रदान की जाएगी. 

राजस्थान विश्वविद्यालय के महाराजा, महारानी, कॉमर्स और राजस्थान कॉलेज सहित दोनों लॉ कॉलेजों व विश्वविद्यालय के 37 पोस्ट ग्रेजुएट डिपार्टमेंट में पढ़ने वाले कुल 28000 विद्यार्थियों को इस योजना का लाभ मिलेगा. राजस्थान विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. राजीव जैन के निर्देशों के उपरांत गुरुवार को इस योजना के संबंध में यूनाइटेड इंडिया इंश्योरेंस कंपनी के साथ हुए समझौते पर विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार कजोडमल दूडिया ने हस्ताक्षर किए. विगत वर्ष मृत्यु की स्थिति में यह सहायता राशि 6 लाख रुपए थी, जिसमे 50 हजार रुपए की वृद्धि इस वर्ष की गई है.

स्कूल फीस मामले में कल फिर राजस्थान हाईकोर्ट में सुनवाई, अभिभावकों का धरना जारी

पूरे भारतवर्ष में राजस्थान विश्वविद्यालय में सर्वप्रथम लागू की गई इस योजना के तहत अब तक विश्वविद्यालय अपने घायल व दुर्घटना में मृत छात्रों के परिजनों को एक करोड़ से अधिक की राशि उपलब्ध करवा चुका है. राजस्थान विश्वविद्यालय के पीआरओ डॉ. भूपेंद्र सिंह शेखावत द्वारा राज्य में तेजी से बढ़ती सड़क दुर्घटनाओं व अन्य घटनाओं में अपने परिवारों के लाडले व निर्दोष युवाओं की मृत्यु व गंभीर रूप से घायल होने के भयावह आंकड़े को दृष्टिगत रखा गया है. इसी के तहत अपने एक व्यापक अध्ययन के बाद पूरे देश में अभिनव रूप से तैयार की गई छात्र दुर्घटना सहायता योजना के आधार पर यह सहायता विश्वविद्यालय के पीडि़त स्टूडेंट्स को उपलब्ध करवाई जा रही है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें