REET पेपर लीक मामले की CBI जांच को लेकर राजस्थान भाजपा में दरार

Mithilesh Kumar Patel, Last updated: Sun, 30th Jan 2022, 11:10 PM IST
  • रीट REET 2021 पेपर लीक मामले को लेकर राजस्थान के नेता प्रतिपक्ष व भाजपा नेता गुलाबचंद कटारिया कटारिया ने कहा कि एसओजी जांच सही तरीके से कर रही है वहीं राजस्थान के भाजपा प्रदेश अध्यक्ष व एक अन्य बीजेपी सांसद मामले की जांच CBI से कराने की मांग कर रहे हैं.
राजस्थान के नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया

जयपुर. रीट REET 2021 पेपर लीक मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग को लेकर राजस्थान के भाजपा नेताओं में आपसी दरार पड़ने के संकेत सामने आने लगे हैं. दरअसल ये अनुमान इसलिए लगाए जा रहे हैं क्योंकि रीट पेपर लीक मामले की जांच कर रही एसओजी के कामकाज की हाल ही में प्रदेश के नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने खुलकर तारीफ की है. इस दौरान कटारिया ने कहा कि एसओजी जांच सही तरीके से कर रही है. ऐसे में अगर सीबीआई इस मामले की जांच में ज्यादा समय लेगी तो फिर CBI से जांच कराने का क्या फायदा. नेता प्रतिपक्ष कटारिया ने कहा कि राजस्थान पुलिस पर मुझे गर्व है. बता दें कि नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया का यह बयान काफी मायने रखता है. दूसरी तरफ कटारिया की पार्टी के भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया लगातार रीट पेपर लीक मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग कर रहे हैं. इसके आलावा भाजपा सांसद किरोड़ीलाल भी लगातार सीबीआई जांच की मांग कर रहे हैं.

रीट भर्ती परीक्षा 2021 पेपर लीक मामले की जांच कर रही एसओजी के तारीफ कर नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया ने बयान देकर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया की सीबीआई जांच की मांग को इशारों में विरोध किया है. विरोध की वजह से कटारिया ने अपने ही पार्टी के नेता सतीश पूनिया और राजेंद्र सिंह राठौड़ की मांग को सिरे से खारिज कर दिया है. राज्य की सियासत में गुलाब चंद कटारिया और सतीश पूनिया के आपसी मतभेद के बारे में सभी जानते हैं. बताया जाता है कि दोनों नेता एक दूसरे को बिल्कुल पंसद नहीं करते हैं. वहीं गुलाब चंद कटारिया हमेशा अपने बेबाक टिप्पणी के लिए जाने जाते हैं. कटारिया ने कहा कि एसओजी से जिस तरह से रीट प्रकरण के केस खोला है. वह काबिले तारीफ के योग्य है. कटारिया ने कहा राजस्थान पुलिस में आज भी ऐसे अधिकारी हैं जो सरकार की सहायता मिले तो हर मामले को खोल सकते हैं.

REET रद्द करने में दो मिनट लगते हैं, जिसने गलती की कीमत चुकानी पड़ेगी : CM गहलोत

बता दें कि भाजपा प्रदेश के अध्यक्ष सतीश पूनिया रीट पेपर लीक मामले की जांच सीबीआई से कराने की लगातार मांग कर रहे हैं. शनिवार को एक बार फिर पूनिया ने पेपर लीक मामले की सीबीआई से जांच कराने की मांग की थी. पूनिया ने गहलोत सरकार पर आरोप लगाया कि बिना राजनीतिक संरक्षण के परीक्षा में नकल नहीं हो सकती है. वहीं दूसरी ओर भाजपा सांसद किरोड़ीलाल ने गहलोत सरकार में एक मंत्री और राज्य के एक ब्यूरोक्रेट्स की भूमिका को पेपर लीक मामले में संदिग्ध बताया है. किरोड़ी लाल ने कहा कि राजनीतिक संरक्षण से ही बोर्ड अध्यक्ष डीपी जारौली ने पेपर लीक करवाए. ऐसे में गहलोत सरकार को चाहिए कि मामले की जांच सीबीआई करे. उन्होंने कहा कि सीबीआई जांच के बाद ही रीट अभ्यर्थियों को न्याय मिलेगा. हालांकि, गहलोत सरकार पहले ही रीट भर्ती परीक्षा 2021 पेपर लीक मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग खारिज कर चुकी है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें