पटवारी भर्ती पर REET की तरह नकल का खतरा, RSMSSB अध्यक्ष ने बताया चीटिंग रोकने का प्लान

Somya Sri, Last updated: Thu, 14th Oct 2021, 2:53 PM IST
  • 23 और 24 अक्टूबर को राजस्थान पटवारी भर्ती परीक्षा आयोजित होने जा रही है। इस परीक्षा में 15 लाख से ज्यादा अभ्यर्थी शामिल होंगे. ऐसे में यह सवाल उठ रहा है कि क्या इस परीक्षा में भी नकल गिरोह एक्टिव रहेंगे या बोर्ड उनपर नकेल कसने की पूरी तैयारी कर चुका है. अखबार को दिए एक इंटरव्यू में राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड के अध्यक्ष हरिप्रसाद शर्मा ने इसपर खुलकर बात की.
राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड के अध्यक्ष हरिप्रसाद शर्मा (फाइल फोटो)

जयपुर: हाल ही में राजस्थान शिक्षक पात्रता परीक्षा यानी रीट एग्जाम में ब्लूटूथ चप्पलों की मदद से नकल कराने वाले गिरोह का पर्दाफाश हुआ था. वहीं पुलिस सब इंस्पेक्टर भर्ती परीक्षा में भी नकल कराने और पेपर लीक कराने वाले गिरोह को पकड़ा गया था. इन नए तरकीबों और तकनीकों से चीटिंग करने के मामलों ने देशभर के लोगों को चौंकाया था. इससे परीक्षा आयोजित करवाने वाले बोर्ड पर भी कई सवाल खड़े हुए थे. अब 23 और 24 अक्टूबर को राजस्थान पटवारी भर्ती परीक्षा आयोजित होने जा रही है। इस परीक्षा में 15 लाख से ज्यादा अभ्यर्थी शामिल होंगे. ऐसे में यह सवाल उठ रहा है कि क्या इस परीक्षा में भी नकल गिरोह एक्टिव रहेंगे या बोर्ड उनपर नकेल कसने की पूरी तैयारी कर चुका है?

पुलिस जवान चप्पे-चप्पे पर रखेंगे निगरानी

हाल ही में राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड के अध्यक्ष हरिप्रसाद शर्मा ने एक अखबार को इंटरव्यू दिया. इस इंटरव्यू में उन्होंने खुलकर बात की कि कैसे राजस्थान पटवारी भर्ती परीक्षा में नकल गिरोह पर नकेल कसी जाएगी. उन्होंने कहा कि, "राजस्थान में होने वाली पटवारी भर्ती परीक्षा में नकल की बिल्कुल भी संभावना नहीं है. हर परीक्षा केंद्र पर वीक्षक से लेकर पुलिस जवान चप्पे-चप्पे पर निगरानी रखेंगे. इसके साथ ही परीक्षा से पहले ही हमारी टीम लगातार नकल गैंग की जानकारी जुटाकर पुलिस और स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप को दे रही है. ताकि चप्पल गैंग से लेकर पेपर आउट करने वालों को परीक्षा से पहले ही पकड़ा जा सके. इसके साथ ही इस बार हमने परीक्षा केंद्र पर नई व्यवस्था लागू की है. इससे नकल और धांधली को पूरी तरह रोका जा सकेगा."

राजस्थान में दलित हत्या को लेकर ट्वीटर पर भिड़े गहलोत के OSD और योगी के सलाहकार

ब्लूटूथ डिवाइस से लगी चप्पल

मालूम हो कि हाल ही में आयोजित हुई राजस्थान शिक्षक पात्रता परीक्षा यानी रीट एग्जाम में नकल कराने वाले गिरोह का पर्दाफाश हुआ था. ये गिरोह अभ्यर्थियों को 6 लाख में ब्लूटूथ डिवाइस से लगी चप्पले बेचा करते थे. बता दें कि रीट परीक्षा में सरकार की ओर से जारी की गई गाइडलाइन के अनुसार अभ्यर्थी केवल चप्पल पहनकर ही परीक्षा हॉल में प्रवेश कर सकते थे. ऐसे में नकल कराने वाले गिरोह ने एक अनोखी चप्पल का आविष्कार कर दिया था. इस अनोखी चप्पल में ब्लूटूथ लगा था और इसकी कीमत 6 लाख बताई गई थी. ब्लूटूथ डिवाइस से लगी इस चप्पल को पहन कर अभ्यर्थी परीक्षा हॉल में आसानी से नकल कर सकता था.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें