Russia Ukraine War: जयपुर में जंग के खिलाफ स्टूडेंट्स ने निकाला शांति मार्च

Smart News Team, Last updated: Tue, 1st Mar 2022, 10:20 PM IST
  • यूक्रेन पर रूस का हमला जारी है, जिसके खिलाफ जयपुर में हजारों छात्र-छात्राओं ने विशाल शांति मार्च निकाला. मानसरोवर के शिप्रापथ स्थित परिष्कार कॉलेज से रवाना होकर ये मार्च वीर तेजा रोड़, मध्यम मार्ग होते हुए बीटू बाई पास स्थित द्वारका दास पार्क तक पहुंचा.
जयपुर में जंग के खिलाफ स्टूडेंट्स ने निकाला शांति मार्च

जयपुर: रूस-यूक्रेन के बीच छिड़ी जंग थमने का नाम नहीं ले रही है. यूक्रेन पर रूस का हमला जारी है, जिसके खिलाफ जयपुर में हजारों छात्र-छात्राओं ने विशाल शांति मार्च निकाला. मानसरोवर के शिप्रापथ स्थित परिष्कार कॉलेज से रवाना होकर ये मार्च वीर तेजा रोड़, मध्यम मार्ग होते हुए बीटू बाई पास स्थित द्वारका दास पार्क तक पहुंचा.

इस रैली के आयोजक परिष्कार कॉलेज ऑफ ग्लोबल एक्सीलेंस के निदेशक डॉ. राघव प्रकाश का कहना है कि युद्ध किसी भी समस्या का हल नहीं है. वर्तमान में यूक्रेन पर हो रहे हमले में बेगुनाह लोगों की मौतें हो रही हैं. आगे बताया कि इस वार में छोटे-छोटे बच्चे और युवकों को अकाल मृत्यू का शिकार होना पड़ रहा है. उन्होंने कहा कि ये जंग केवल यूक्रेन के खिलाफ ना होकर पूरी मानवता के खिलाफ लड़ी जा रही है. राघव प्रकाश ने कहा कि विश्व के सभी देशों में इसका विरोध करना चाहिए.

छात्र-छात्राओं में आक्रोश

छात्र-छात्राओं में आक्रोश

शांति मार्च में शामिल हुए छात्र-छात्राओं ने कहा कि उन्हें केवल यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों की चिंता ही नहीं बल्कि यूक्रेन और अन्य कई देशों के लोगों के लिए चिंतित हैं, जो फिलहाल वहां फंसे हुए हैं. रैली में शामिल स्टूडेंट्स का कहना है कि रूस की जिद के चलते आज यूक्रेन में तबाही मची हुई है. वहां लाखों को लोगों की जान फंस गई है और हजारों लोग मौत के शिकार हो रहे हैं.

राजस्थान में बुधवार से बदलेगा मौसम, इन जिलों में दो दिन बारिश का अलर्ट

छात्रों ने उदाहरण देते हुए कहा कि जो दंश आज यूक्रेन झेल रहा है, हो सकता है कल किसी दूसरे देश को ऐसी आफत झेलनी पड़े. ऐसे में इस तरह के हमलों के खिलाफ पूरे विश्व के सभी समूदायों को आगे आकर विरोध करना चाहिए.

छात्रों ने स्लोगन के जरिए दिए संदेश

छात्र-छात्राओं में आक्रोश

शांति मार्च में शामिल हुए छात्र-छात्राओं ने कहा कि उन्हें केवल यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों की चिंता ही नहीं बल्कि यूक्रेन और अन्य कई देशों के लोगों के लिए चिंतित हैं, जो फिलहाल वहां फंसे हुए हैं. रैली में शामिल स्टूडेंट्स का कहना है कि रूस की जिद के चलते आज यूक्रेन में तबाही मची हुई है. वहां लाखों को लोगों की जान फंस गई है और हजारों लोग मौत के शिकार हो रहे हैं.

छात्रों ने उदाहरण देते हुए कहा कि जो दंश आज यूक्रेन झेल रहा है, हो सकता है कल किसी दूसरे देश को ऐसी आफत झेलनी पड़े. ऐसे में इस तरह के हमलों के खिलाफ पूरे विश्व के सभी समूदायों को आगे आकर विरोध करना चाहिए.

छात्रों ने स्लोगन के जरिए दिए संदेश

छात्रों ने स्लोगन के जरिए दिए संदेश

शांति मार्च के दौरान छात्र-छात्राओं ने तख्तियों पर लिखे स्लोगन के जरिए संदेश देते हुए अपनी भावनाएं प्रकट की, जिस पर लिखा था कि बम नहीं, फूल चाहिए, लड़ाई नहीं, भाईचारा चाहिए. वहीं अंग्रेजी शब्दो में लिखा गया था कि No War, We want Peace, No Destruction, We are for Creation . साथ ही Save Humanity लिखे स्लोगन की तख्तियां छात्र-छात्राओं के हाथ में देखने को मिली. वही, कॉलेज की प्रिंसिपल सविता पाईवाल ने इस विषय पर बात करते हुए कहा कि विश्व के सभी देशों को आगे आकर युद्ध का विरोध करना चाहिए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें