PILOT ने गहलोत को दिलाई घोषणा पत्र की याद बोले पिछड़ा वर्ग को 5 फ़ीसदी आरक्षण

Smart News Team, Last updated: 13/09/2020 07:13 AM IST
  • कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर निशाना साधा. सचिन पायलट ने कहा कि कांग्रेस ने अपने चुनावी घोषणा पत्र में पांच फ़ीसदी आरक्षण दिए जाने का उल्लेख किया था. मगर अब तक वह लागू नहीं किया जा सका है.
सचिन पायलट  अशोक गहलोत

वर्तमान समय में राजस्थान कांग्रेस पार्टी के दिग्गज नेताओं के बीच घमासान जारी है. एक ओर जहां सचिन पायलट अपनी बातों को मनवाए जाने के लिए पूरी तरह से तटस्थ हैं वही मुख्यमंत्री अशोक गहलोत अपने वादों पर डटे हुए हैं. शनिवार को कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि अशोक गहलोत की सरकार ने पिछड़ा वर्ग समुदाय को 5 फ़ीसदी आरक्षण दिए जाने की बात कही थी. मगर आज तक ऐसा नहीं हो सका.

शनिवार को सामने आए एक ऐसे ही पत्र में कांग्रेसी नेता सचिन पायलट ने लिखा था कि गहलोत सरकार से उनका कुछ मुद्दों को लेकर विवाद हुआ था. जिसे कांग्रेस आलाकमान ने सुलझाया. इसके बाद सचिन पायलट ने राजस्थान के मुख्यमंत्री को उनके चुनावी वादों की याद दिलाई.

कांग्रेसी नेता सचिन पायलट ने राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को उनके चुनावी वादों को याद दिलाते हुए कहा कि उन्होंने अपने चुनावी घोषणा पत्र में कहा था कि राज्य सरकार की नौकरियों में विशेषकर पिछड़ा वर्ग समुदाय को 5 फ़ीसदी आरक्षण नहीं दिया जा रहा है. जिसे वह लागू करेंगे. जातियों में गुर्जर समेत पांच अन्य जातियां भी शामिल थी. मई 2010 में विशेष पिछड़ा वर्ग के तहत इन 5 जातियों को 1% आरक्षण का लाभ मिल रहा था. बाद में राज्य सरकार ने नौकरियों में विशेष पिछड़ा वर्ग के तहत 4 फ़ीसदी आरक्षण को हटाकर पांच फ़ीसदी आरक्षण कर दिया था. मगर अब तक सरकार द्वारा इसको अभी तक जारी नहीं किया है. ऐसे में जो भी भर्तियां राज्य सरकार की ओर से निकाली जा रही हैं उनमें गुर्जर और अन्य जातियों के परीक्षार्थियों को इसका लाभ नहीं मिल पा रहा है.

सचिन पायलट ने कहा कि कांग्रेस ने अपने चुनावी घोषणा पत्र में पांच फ़ीसदी आरक्षण दिए जाने का उल्लेख किया था. मगर अब तक वह लागू नहीं किया जा सका है. उन्होंने बताया कि यदि कांग्रेस अपना चुनावी घोषणापत्र पूरा कर लेती है तो उसे इसका आगामी चुनावों में लाभ मिल सकता है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें