नोटिस के बाद शेखावत के इस ट्वीट पर राजनीति, जोशी बोले- ACB का पता भेजूं

Smart News Team, Last updated: Sat, 26th Jun 2021, 6:31 PM IST
  • केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने अजय माकन और जोशी की मुलाकात के फोटो में टेबल पर रखे कागज को दिल्ली पुलिस का सम्मन बताया तो राजस्थान कांग्रेस सरकार के मुख्य सचेतक महेश जोशी ने भी पलटवार कर लिख दिया की आपकों अगर राजस्थान एसीबी के मुख्यालय के पते की जानकारी ना हो तो मैं आपको भेज दूं.
कांग्रेस सरकार के मुख्य सचेतक महेश जोशी और अजय माकन के साथ की तस्वीर में टेबल पर रखे दस्तावेज पर केंद्रीय मंत्री ने की टिप्पणी.

राजस्थान में फोन टैपिंग मामले को लेकर अब ट्वीटर पर केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत और राजस्थान कांग्रेस सरकार के मुख्य सचेतक महेश जोशी जबरदस्त तरीके से भीड़ गए हैं. केंद्रीय मंत्री शेखावत ने अजय माकन और महेश जोशी के मुलाकात की फोटो में टेबल पर रखे कागज को दिल्ली पुलिस का सम्मन बताया तो जोशा ने भी पलटवार कर लिख दिया की आपकों अगर राजस्थान एसीबी के मुख्यालय के पते की जानकारी ना हो तो में आपकों भेज दूं.

महेश जोशी ने शुक्रवार को फोन टैपिंग केस में दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच के नोटिस को लेकर राजस्थान कांग्रेस के प्रभारी अजय माकन से मुलाकात की थी. गजेंद्र सिंह शेखावत ने इस मुलाकात की तस्वीर ट्वीट कर टेबल पर पड़े कागज को क्राइम ब्रांच का नोटिस बताया. आगे उन्होंने महेश जोशी को पूछताछ के लिए जाने के लिए दिल्ली पुलिस हेडक्वार्टर का पता भी दे दिया.

इतना ही नहीं केंद्रीय मंत्री शेखावत ने महेश जोशी पर तंज कसते हुए ट्वीट किया- मुख्य सचेतक साहब, पता चला कि आप दिल्ली में हैं, आपकी सुविधा के लिए पुलिस मुख्यालय का पता मैने यहां लिखा है. टेबल पर पड़े सम्मन पर भी यही पता है, मीटिंग के बाद इसकी पालना जरूर करें. केंद्रीय मंत्री की ट्वीट पर महेश जोशी ने पलटवार करते हुए लिखा- मेज पर पड़े जिस कागज पर लिखा कुछ भी पढने में नहीं आ रहा है, उसे मेरा नोटिस बताना सिद्ध करता है कि आपको साजिश करने की पहचान है, क्योंकि पूरी साजिश के मुख्य किरदार आप ही हैं और आपके दबाव से ही दिल्ली पुलिस ने मुझे वह नोटिस भेजा था. लेकिन मंत्री महोदय नोटिस सही धारा में भिजवाया होता तो बिना पता पूछे सिर के बल आपकी दिल्ली पुलिस की सेवा में हाजिर होता.

कांग्रेस के मुख्य सचेतक महेश जोशी ने केंद्रीय मंत्री के टिप्पणियों का जवाब देते हुए कहा कि “आपकी स्वयं की नादानी से ही आपका प्लान चौपट हो गया. खैर आपको राजस्थान ACB के पते की जानकारी नहीं तो मैं भेजूं ?” बता दें कि केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह की फोन टैपिंग की शिकायत के आधार पर 25 मार्च को दिल्ली क्राइम ब्रांच ने केस दर्ज किया था. मामले में मुख्यमंत्री के ओएसडी लोकेश शर्मा और पुलिस अफसरों को आरोपी बनाया. इसी बीच महेश जोशी को दिल्ली क्राइम ब्रांच द्वारा 24 जून को पूछताछ के लिए बुलायागया. महेश जोशी ने नोटिस की कानूनी वैधता पर सवाल उठाते हुए पूछताछ के लिए जापने से इनकार कर दिया. उनका कहना है कि उनकी उम्र 65 साल से ज्यादा है और कानूनी प्रावधानों के हिसाब से 65 साल से ज्यादा उम्र के व्यक्ति को पूछताछ के लिए थाने नहीं बुलाया जा सकता.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें