Video: पुलिसकर्मी ने सड़क पर लगाई बच्चों की बोली- 50 हजार में खरीद लो बेटा

Smart News Team, Last updated: Thu, 18th Nov 2021, 11:35 AM IST
  • सोशल मीडिया में वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है, जिसमें वर्दी पहने पुलिसकर्मी एक व्यस्त चौराहे पर अपने बच्चों को 50 हजार रुपये में बेचने के लिए बोली लगा रहा है. इस दौरान वहां से गुजर रहे लोग यह देख हैरान रह गए.
पुलिसकर्मी एक चौराहे पर अपने बच्चों को 50 हजार रुपए में बेचने के लिए बोली लगा रहा है.

जयपुर. मां-बाप अपने बच्चे का सौदा कर सकते हैं, यह बात कभी सपने में भी नहीं सोचा जा सकता, लेकिन सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे इस वीडियो ने सोचने पर मजबूर कर दिया. इस वीडियो में पुलिसकर्मी एक चौराहे पर अपने बच्चों को 50 हजार रुपए में बेचने के लिए बोली लगा रहा है. वहीं अगल बगल से गुजर रहे लोग उसे देखकर हैरान रह गए . कुछ लोग पुलिसकर्मी को भला बुरा कहने लगे, लेकिन जब हकीकत सामने आई तो मामला कुछ और ही निकला.

50 हजार की लगाई बोली

वीडियो को सोशल मीडिया पर शेख सरमद ने ट्विटर प्लेटफार्म पर शेयर किया है. वीडियो में देख सकते हैं कि वर्दी पहने पुलिसकर्मी एक व्यस्त चौराहे पर अपने बच्चों को 50 हजार रुपये में बेचने के लिए बोली लगा रहा है. इस दौरान वहां से गुजर रहे लोग यह देख हैरान रह गए. कुछ लोग पुलिसकर्मी को भला बुरा भी कहने लगे, लेकिन जब हकीकत पता चला तो वे हैरान रह गए.

यह था पूरा मामला

वीडियो में दिख रहे इस पुलिसकर्मी का नाम निसार लशारी बताया जा रहा है, जो कि कि वो जेल विभाग का कर्मचारी है. दरअसल निसार ने अपने सीनियर अधिकारी से अपने बीमार चल रहे बच्चे के ऑपरेशन के लिए छुट्टी मांगी थी, लेकिन उसने छुट्टी देने के बदले निसार से रिश्वत मांगी. यहां उसके सीनियर्स बच्चे के इलाज के लिए छुट्टी देने के बदले रिश्वत की मांग कर रहे हैं. उसने रिश्वत देने में असमर्थता जताई तो उसका ट्रांसफर घोटकी से 120 किलोमीटर दूर लरकाना में कर दिया गया है. वो अपने बॉस के खिलाफ शिकायत भी नहीं कर सकता, क्योंकि उसकी पहुंच ऊपर तक है. परेशान होकर उसने बच्चों को बेचने के लिए बोली लगाना शुरू कर दिया. पुलिसकर्मी ने यह भी सवाल किया कि क्या उसे अपने बच्चे के ऑपरेशन के लिए रिश्वत देनी चाहिए थी.

मुख्यमंत्री ने सुनी फरियाद

यह मामला पाकिस्तान में सिंध प्रांत के घोटकी जिले का है. निसार लशारी का ये वीडियो वायरल होने के बाद पूरा मामला संज्ञान में आया. उसकी फरियाद सिंध के मुख्यमंत्री मुराद अली शाह तक पहुंच गई है. उन्होंने मामले में हस्तक्षेप करते हुए निसार की नौकरी घोटकी में ही बने रहने का आदेश दिया है और उन्हें बच्चे के इलाज के लिए 14 दिन की छुट्टी दिए जाने के लिए भी कहा है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें