जयपुर में लगातार हो रही बारिश से खुली प्रशासन की पोल

Smart News Team, Last updated: 12/08/2020 02:21 PM IST
  • जयपुर में लगातार बारिश होने की वजह से निचले इलाकों में पानी भर गया है. एसडीआरएफ की टीम फंसे लोगों को बाहर निकलने में लगी हुई है तो कही कही राफ्टिंग बोट का भी सहारा लिया जा रहा है.
बारिश से शहर की वीवीआईपी सड़के नदियों में बदल गयीं

जयपुर. राजधानी जयपुर में मंगलवार रात से शुरू हुई बारिश का दौर रुक रुक कर जारी है. लगातार 5 घंटे जम कर बारिश हुई. इस कुछ घंटों की बारिश सरकार के तमाम एजेंसियों की पोल खोल कर रख दी. बारिश से पहले बाढ़ जैसे हालातों से निपटने का दावा करने वाले नगर निगम, जिला प्रशासन और जेडीए सहित तमाम प्रशानिक एजेंसियों को बेनकाव कर दिया.

इस बारिश से शहर की वीवीआईपी सड़के नदियों में बदल गयीं. नाले सड़कों के ऊपर से बहने लगे और शहर के निचले इलाकों में पानी भरने से लोग इसमें फंस गए. इसके बाद लोगों ने सभी जिम्मेदार एजेंसियों के कंट्रोल रूम में फोन कर शिकायतें दर्ज कराई लेकिन समय रहते कोई नहीं पहुंचा. अखिर कार देर रात एसडीआरएफ ने मोर्चा संभालते हुए जवाहर नगर क्षेत्र की कच्ची बस्ती नंबर एक, दो व तीन के निचले इलाकों में पानी में फंसे लोगों को बाहर निकाला और फिर उन्हें सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया.

एसडीआरएफ टीम के सदस्यों ने बताया कि जवाहर नगर की मुख्य सड़क के पीछे निचले इलाकों में बने मकानों में बारिश का पानी भर गया. यहां अक्सर तेज बारिश होने पर पानी भर जाता है. वहीं यहां पानी के कारण मिट्टी दलदल का रूप लेने लगती है. तेज बारिश होने के कारण इस बार जल भराव भी हुआ और साथ ही दलदल की समस्या भी बनने लगी थी. लेकिन गनीमत रही कि किसी तरह की जनहानि नहीं हुई. हांलाकि लोगों का घरेलू सामान काफी हद तक खराब हो गया.

जयपुर के सीकर रोड पर भी दुकानों व मकानों में घुसा पानी

सीवरेज लाइनों और बरसाती नालों की सफाई नहीं होने से पानी की निकासी नहीं हो सकी जिससे कई इलाके जलमग्न हो गए. सीकर रोड पर भी पानी जमा होने से दुकानों और मकानों में घुस गया. दुकानों और मकानों में इतना पानी घुसा कि सामान तो खराब हुआ ही मकानों और दुकानों की नींव में भी पानी जा घुसा. दूर रात तक हुई बारिश के कारण लोग बुधवार सुबह तक मकानों से पानी बाहर निकालते नजर आए। मकानों में इतना पानी घुसा कि एक मकान के आंगन में खड़ा ट्रैक्टर तक डूब गया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें