संवेदनशील मतदान केंद्र पर फर्जी मतदान रोकने को इस्तेमाल होगी वेबकास्टिंग तकनीक

Smart News Team, Last updated: Mon, 5th Apr 2021, 9:09 PM IST
  • निर्वाचन आयोग की ओर से नई तकनीक वेबकास्टिंग का इस्तेमाल उन बूथों पर किया जाएगा, जहां अवांछनीय गतिविधियों की संभावना अधिक रहती है. राज्य स्तर पर मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय से भी इसकी निरंतर मॉनिटरिंग की जाएगी.
फाइल फोटो

जयपुर. प्रदेश में सुजानगढ़, सहाड़ा और राजसमंद विधानसभा सीट के लिए हो रहे उपचुनाव में फर्जी मतदान रोकने के लिए निर्वाचन आयोग वेबकास्टिंग तकनीक का इस्तेमाल करेगा. इस तकनीक का इस्तेमाल तीनों सीटों के उन 10 फीसदी मतदान केंद्रों पर किया जाएगा, जहां पर बलवा, बूथ कैप्चरिंग, अनाधिकृत प्रवेश करने सहित अन्य अवांछनीय गतिविधियां होने की संभावना अधिक है. मुख्य निर्वाचन अधिकारी प्रवीण गुप्ता ने बताया कि तीनों विधानसभा क्षेत्रों में कुल 1145 मतदान केंद्र स्थापित किए गए हैं. इनमें से 100 संवेदनशील मतदान केंद्रों पर वेब कैमरों के जरिए नजर रखी जाएगी. उन्होंने बताया कि भीलवाड़ा जिले की सहाड़ा विधानसभा के 39, राजसमंद के 35 और चुरू जिले के सुजानगढ़ विधानसभा क्षेत्र में 26 मतदान केंद्रों पर इस तकनीक के जरिए निगरानी की जाएगी.

वेब कैमरे से प्राप्त सूचना पर होगी तत्काल प्रभावी कार्रवाई: मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि मतदान केन्द्रों में लगे वेब कैमरों से प्राप्त सूचना पर संभावित वारदातों पर त्वरित प्रभावी कार्रवाई के लिए जिला स्तर पर सभी तकनीकी सुविधाओं से युक्त नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है. राज्य स्तर पर मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय से भी इसकी निरंतर मॉनिटरिंग की जाएगी. साथ ही भारत निर्वाचन आयोग द्वारा भी इसे देखा जा सकता है. उन्होंने बताया कि वेब कैमरों के संस्थापन में भी इस बात पर विशेष ध्यान रखा जाएगा कि मतदान की गोपनीयता प्रभावित हुए बिना कक्ष के अन्दर प्रवेश से लेकर मतदाता के बाहर निकलने तक की प्रत्येक गतिविधि रिकॉर्ड की जा सके.

राजस्थान रोडवेज: मृतक कर्मचारियों के आश्रितों को नौकरी, गहलोत सरकार ने दी मंजूरी

वीडियों देखने के साथ ओडियों भी सुन सकेंगे: गुप्ता ने बताया कि मतदान दिवस पर इस तकनीक से असामाजिक तत्वों पर तो नियंत्रण रखा ही जा सकेगा, साथ ही चुनाव कार्य में लगे कार्मिकों की गतिविधियों, निष्पक्षता, मतदान कक्ष की आन्तरिक गतिविधियों आदि पर भी निगाह रखी जा सकेगी. उन्होंने बताया कि वेब कास्टिंग में वीडियों के साथ वहां हो रही आडियो को भी सुना जा सकता है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें