जयपुर : राजस्थान में 1975 रुपए प्रति क्विंटल की दर से होगी गेहूं की खरीद

Smart News Team, Last updated: Thu, 14th Jan 2021, 4:15 PM IST
  • राजस्थान में आगामी रबी विपणन वर्ष 2021-22 के लिए गेहूं की एमएसपी तय कर दी गई है. खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग के शासन सचिव ने बताया कि कृषि विभाग की ओर से जारी कृषि उत्पादन कार्यक्रम के तहत प्रदेश में लगभग 108 लाख मैट्रिक टन गेहूं की पैदावार होने की संभावना जताई गई है.
सांकेतिक फोटो

जयपुर. राजस्थान के किसानों के लिए गेहूं की एमएसपी को लेकर बड़ी खबर है. यहां आगामी रबी विपणन वर्ष 2021-22 के दौरान न्यूनतम समर्थन मूल्य एक हजार 975 रुपए प्रति क्विंटल की दर से गेहूं की खरीद की जाएगी. खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग के शासन सचिव नवीन जैन ने बुधवार को न्यूनतम समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीद की तैयारियों के संबंध में आयोजित बैठक में यह बात कही. उन्होंने बताया कि कृषि विभाग की ओर से जारी कृषि उत्पादन कार्यक्रम के तहत प्रदेश में लगभग 108 लाख मैट्रिक टन गेहूं की पैदावार होने की संभावना बताई गई है. 

उन्होंने बताया कि वर्ष 2020-21 के दौरान ई-प्रोक्योरमेन्ट के तहत कोई कार्य नहीं हुआ. लेकिन, इस रबी विपणन वर्ष 2021-22 में ई-प्रोक्योमेन्ट के तहत समस्त कार्यवाही निर्धारित समयावधि में पूर्ण करने के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए जा चुके हैं. शासन सचिव ने बताया कि समस्त खरीद प्रक्रिया के प्रभावी रूप से नियंत्रण एवं पर्यवेक्षण के लिए जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में गठित समिति की बैठक के लिए दिशा-निर्देश जारी करने का निर्णय लिया गया है. उन्होंने बताया कि भारत सरकार के निर्देशानुसार परिवहन दरों के निर्धारण एवं मंडी लेबर चार्जेज के निर्धारण के लिए राज्य स्तरीय समिति की बैठक आयोजित की गई, जिसमें इन दरों के निर्धारण के लिए एक विशेषज्ञ उप समिति का गठन कर लिया गया है. 

जयपुर : अंडरगारमेंट में छिपाकर सोना ला रही थी महिला, एयरपोर्ट पर पकड़ी गई

उप समिति आगामी 2 फरवरी को राज्य स्तरीय समिति को रिपोर्ट देगी, जिसके आधार पर आगामी रबी विपणन वर्ष 2021-22 में दरों का निर्धारण किया जाएगा. गेहूं की खरीद से जुड़े हुए विभिन्न बिन्दुओं सहित खरीद कीमतों पर बैठक में विस्तारपूर्वक चर्चा की गई. बैठक में अतिरिक्त खाद्य आयुक्त अनिल कुमार अग्रवाल, राजफैड की प्रबन्ध निदेशक सुषमा अरोड़ा, एफसीआई के महाप्रबन्धक संजीव भास्कर सहित संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें