जयपुर: अस्पताल में सिर्फ कागज़ पर भर्ती मिली मरीज, अटेंडेंट कार्ड से हुआ खुलासा

Smart News Team, Last updated: Mon, 17th May 2021, 11:01 AM IST
  • जयपुर में कोविड डेडीकेटेड आरयूएचएस अस्पताल में लगातार अनियमितताएं सामने आ रही है. एसीबी की सात दिन में दो कार्रवाई के बावजूद कई तरह के मामले खुल रहे है. एक मामला फिर सामने आया है. जहां भर्ती नहीं होने के बावजूद मरीज को भर्ती दिखा दिया गया.
प्रतिकात्मक तस्वीर 

जयपुर. राजस्थान के सबसे बड़े कोविड डेडीकेटेड अस्पताल आरयूएचएस में एक बार फिर गड़बड़झाला सामने आया है. यहां पर आउटडोर में एक महिला डॉक्टर सीटी स्कैन करवा कर वापस लौट गई थी. लेकिन, इस मरीज को भर्ती दिखा दिया गया. यह पूरा मामला अटेंडेंट कार्ड से खुला. इसके बाद महिला डॉक्टर ने इसकी शिकायत उच्चाधिकारियों से भी की. बता दें कि आरयूएचएस अस्पताल में भर्ती करने के नाम पर रिश्वत के दो मामले एसीबी के पकड़ में आने के बाद यह नया मामला सामने आया है.

जानकारी के अनुसार सवाई मानसिंह अस्पताल की वरिष्ठ महिला चिकित्सक को कोरोना के लक्षण महसूस हुए थे. इस पर वह सीटी स्कैन कराने आरयूएचएस पहुंची. आउटडोर की प्रक्रिया से सीटी स्कैन करा वह घर लौट गई. पांच दिन बाद उन्हें किसी ने कॉल कर कहा कि हमारा पेशेंट उसी वार्ड में भर्ती है, जहां आप भर्ती हैं. हमारा और आपका अटेंडेड कार्ड बदल गया है. यह सुनकर महिला चिकित्सक सन्न रह गई. वह भर्ती नहीं हुई. फिर भी उन्हें वार्ड में भर्ती बता दिया गया और अटेंडेंट कार्ड भी बना दिया गया. उसी कार्ड पर लिखे मोबाइल नंबर देखकर किसी ने उन्हें कॉल किया. फर्जीवाड़े की आशंका पर महिला चिकित्सक ने अस्पताल प्रशासन से लेकर उच्च अधिकारियों तक मामले की जानकारी दी. लेकिन, तह तक जाने की किसी ने जरूरत नहीं समझी.

जयपुर के 11 लाख घरों में होगा डोर टू डोर कोरोना सर्वे, 1200 टीम करेंगी काम

अस्पताल के भर्ती प्रभारी डॉक्टर धीरज का कहना है कि भर्ती टिकट गलती से बन गया था. जिसे निरस्त कर दिया गया है. हालांकि यह स्पष्ट नहीं कर पाए कि भर्ती टिकट गलती से बना तो अटेंडेंट कार्ड किसी दूसरे मरीज के परिजन के हाथ कैसे लगा. 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें