येलो अलर्ट जारी, गरज के साथ हो सकती है राजस्थान में झमाझम बारिश

Smart News Team, Last updated: 20/09/2020 08:47 PM IST
  • मौसम विभाग के अनुसार प्रदेश में बारिश का दौर 23 सितम्बर तक जारी रह सकता है. विभाग ने 23 सितम्बर तक प्रदेश के कई हिस्सों में येलो अलर्ट जारी किया गया है.
प्रतीकात्मक तस्वीर 

राजस्थान के कई जिलों में बारिश हो सकती है. मौसम विभाग के अनुसार, प्रदेश में सक्रिय एक सिस्टम के कारण अभी तक मानसून की विदाई नहीं हुई है. यही वजह है कि सिस्टम के कारण प्रदेश में बारिश का दौर भी जारी है. मौसम विभाग की माने तो आज प्रदेश के दक्षिण हिस्से के कुछ जिलों में मौसम बदल सकता है.

मौसम विभाग ने 7 जिलो के लिए येलो अलर्ट जारी किया है. बांसवाड़ा, चित्तौड़, डूंगरपुर, राजसमंद, प्रतापगढ़, सिरोही और उदयपुर जिले में मेघ गर्जन के साथ बारिश हो सकती है. मौसम विभाग के अनुसार प्रदेश में बारिश का दौर 23 सितम्बर तक जारी रह सकता है. विभाग ने 23 सितम्बर तक प्रदेश के कई हिस्सों में येलो अलर्ट जारी किया है.

इनमें दक्षिण पूर्वी राजस्थान के जिले शामिल हैं. प्रदेश से इस बार मानसून की विदाई में देरी हो गई है. फिलहाल, बने सिस्टम के कारण लगतार बारिश का दौर जारी है. इस परिस्थिति के चलते इस माह के आखिरी में ही मानसून की प्रदेश से वापसी संभव है.

कहीं बारिश तो कहीं पारा 41 डिग्री के पार पहुंचा

बता दें कि इससे पहले गुरुवार को खबर सामने आई थी कि बारिश की गतिविधियां कमजोर पड़ने के साथ ही प्रदेश में गर्मी का दौर शुरू हो गया है. प्रदेश में बुधवार को चूरू सबसे गर्म क्षेत्र रहा. चूरू में दिन का पारा 41 डिग्री के पार पहुंच गया. वहीं, पिलानी और श्रीगंगानगर में पारा 39 तथा जैसलमेर और बीकानेर में 38 डिग्री सेल्सियस के आसपास बना रहा. राज्य के अन्य हिस्सों में भी गर्मी ने तीखे तेवर दिखाये जिससे लोग गर्मी से त्रस्त रहे.

विदाई के मूड में आ चुका है मॉनसून

हाल ही में विदाई की बेला में फिर से सक्रिय हुआ मानसून प्रदेश में कोई चमत्कार नहीं दिखा पाया. बंगाल की खाड़ी में बना कम दबाव का क्षेत्र प्रदेश को भिगो नहीं सका. हालांकि, मौसम विभाग का अनुमान था कि इससे राजस्थान के कुछ हिस्सों में बारिश हो सकती है, लेकिन ऐसा हो नहीं पाया. मौसम विभाग के मुताबिक मॉनसून अब पूरी तरह से विदाई के मूड में आ चुका है. वैसे भी प्रतिवर्ष 17 सितंबर के आसपास मॉनसून विदाई लेना शुरू कर देता है. सितंबर माह के अंत तक यह प्रदेश से विदा हो जाता है. राजस्थान में इस बार मानसून बेहद सामान्य रहा है, लेकिन इस बार औसत बारिश का आंकड़ा छू लिया है. वहीं कुछ जिले अपनी औसत बारिश के आंकड़े से पीछे रह गये.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें