राजस्थान में किराए के भवनों में चल रही आंगनबाड़ी केन्द्रों के पास होंगे अपने भवन

Smart News Team, Last updated: 12/12/2020 08:02 PM IST
  • राजस्थान के मुख्य सचिव निरंजन आर्य ने सचिवालय में महिला एवं बाल विकास विभाग के पोषण अभियान तथा बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान की वीडियो कॉन्फ्रेन्स के माध्यम से आयोजित समीक्षा बैठक में यह जानकारी दी. आर्य ने आंगनबाड़ी केन्द्रों के रिक्त पदों को शीघ्र भरने के निर्देश भी दिए.
समीक्षा बैठक करते मुख्य सचिव निरंजन आर्य

जयपुर. राजस्थान के शहरी क्षेत्रों में किराए के भवनों में संचालित आंगनबाड़ी केन्द्रों के पास अब जल्द खुद का भवन होगा. मुख्य सचिव (सीएस) निरंजन आर्य ने ऐसी आंगनबाड़ी केन्द्रों के लिए भूमि आंवटन के साथ ही भवन निर्माण में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन से तकनीकी सहयोग लेने के निर्देश दिए हैं. सीएस ने सचिवालय में महिला एवं बाल विकास विभाग के पोषण अभियान तथा बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान की वीडियो कॉन्फ्रेन्स के माध्यम से आयोजित समीक्षा बैठक को संबोधित करते हुए यह जानकारी दी. 

आर्य ने आंगनबाड़ी केन्द्रों तक राशन सामग्री की समय पर आपूर्ति सुनिश्चित करने तथा आंगनबाड़ी केन्द्रों के रिक्त पदों को शीघ्र भरने के निर्देश दिए. साथ ही आंगनबाड़ी केन्द्रों पर पंजीकृत बालक एवं बालिकाओं के अनुपात का विश्लेषण करने के लिए शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र, संभाग एवं जिलेवार तथा वर्गवार अल्पसंख्यक, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, टीएसपी क्षेत्र के आंकड़ें तैयार कर विभाग के कार्यक्रमों को और अधिक प्रभावी रूप से संचालित करने के निर्देश दिए. मुख्य सचिव निरंजन आर्य ने बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत जिलों को आवंटित राशि का उपयोग कर लिंगानुपात सुधारने के प्रभावी प्रयास करने तथा लिंगानुपात में पिछड़े टोंक जिले का विशेष रूप से अध्ययन कर लिंगानुपात के अन्तर के कारणों की समीक्षा करने के निर्देश दिए. 

उर्जा संरक्षण पर क्विज, जीतने वाले को मिलेगा नौकरी का ऑफर, जानें डिटेल्स

बैठक में महिला एवं बाल विकास विभाग के सचिव के के पाठक ने प्रदेश में पोषण अभियान तथा बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान की प्रगति की जानकारी प्रजेंटेशन के माध्यम से दी. उन्होंने बताया कि नवाचार और प्रोत्साहन के तहत सभी जिलों में चयनित आंगनबाड़ी केन्द्रों पर न्यूट्री गार्डन्स का विकास किया जा रहा है. जिला एवं परियोजना स्तर पर शिकायत निवारण अधिकारी नामित किए जा चुके हैं. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें