बसंत पंचमी पर करें ये उपाय, कामदेव की कृपा में जीवन में प्रेम की इच्छा होगी पूरी

Pallawi Kumari, Last updated: Wed, 2nd Feb 2022, 5:00 PM IST
  • माघ माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि यानी 5 फरवरी 2022 को बसंत पंचमी का त्योहार मनाया जाएगा. इस दिन देवी सरस्वती की पूजा करने का विधान है. लेकिन बसंत पंचमी पर कामदेव की पूजा की भी परंपरा है. इस दिन कुछ उपाय करने से कामदेव की कृपा से जीवन में प्यार पाने की इच्छा पूरी होती है.
बसंत पंचमी पर देवी सरस्वती और कामदेव की पूजा (फोटो-सोशल मीडिया)

बसंत पंचमी का त्योहार मां सरस्वती की पूजा अराधना के लिए जाना जाता है. इस दिन लोग विद्या, कला और ज्ञान की देवी सरस्वती की पूजा करते हैं. खास कर पढ़ने लिखने वाले स्टूडेंट और कला क्षेत्र से जुड़े लोग मां सरस्वती की पूजा करते हैं. लेकिन बसंत पंचमी पर सिर्फ मां सरस्वती ही नहीं बल्कि कामदेव की भी पूजा की जाती है. कहा जाता है कि अगर इस दिन कामदेव की पूजा नहीं की गई सृष्टि की उन्नति रुक जाती है.

शास्त्रों में कामदेव की प्रेम का स्वामी कहा जाता है. सृष्टि में प्राणियों के बीच प्रेम भावना बनी रहे, इसलिए बसंत पंचमी यानी वंसत ऋतु के आगमन के दिन कामदेव की पूजा करना जरूरी माना जाता है. लेकिन अगर आप बसंत पंचमी पर कामदेव की पूजा करने के साथ ही इन उपाय को करेंगे तो आपके जीवन में प्रेम का अभाव जल्द खत्म होगा और प्रेम की प्राप्ति होगी. आइये जानते हैं किस समस्या के लिए कैसा उपाय करें.

बसंत पंचमी पर सिर्फ मां सरस्वती नहीं बल्कि कामदेव की भी होती है पूजा, ये है वजह

1.जीवनसाथी किसी बात से रूठा हुआ है तो बसंत पंचमी के दिन एक सफेद कोरे कागज पर सिन्दूर से ‘क्लीं’ लिखकर उसे मोड़कर अपने पार्टर के कपड़ों की अलमारी में रख दें. फिर देखें कैसे चमत्कारी रूप से सब ठीक हो जाएगा.

2.अगर एक अच्छे जीवनसाथी की तलाश में हैं को बसंत पंचमी के दिन कामदेव के एकाक्षर मंत्र ‘क्लीं’के साथ दही से मिश्रित धान के लावे से हवन करें.

3.अगर आप चाहते हैं कि कोई आपकी तरह मोहित या आकर्षित हो तो इसके लिए हाथ पीले फूल लेकर उस व्यक्ति के चेहरे का आभास करना चाहिए और कामदेव के विशेष मंत्र “ऊं नमो भगवते कामदेवाय, यस्य यस्य दृश्यो भवामि, यश्च यश्च मम मुखम पछ्यति तत मोहयतु स्वाहा। ' का 108 बार जप करना चाहिए. जाप के बाद फूलों को होली तक संभाल के रखें और फिर किसी बहते जल में प्रवाहित कर दें.

4.वैवाहिक जीवन में प्यार और उमंगों की बहार लाने के लिए आप बसंत पंचमी पर पीले रंग का कपड़ा पहनकर कामदेव की पूजा करें और ‘ऊं कामदेवाय: विदमहे पुष्पबाणाय धीमहि तन्नो अनंग: प्रचोदयात।’ मंत्र का 108 बार जाप करें.

5. अगर आप शादीशुदा जिंदगी में प्यार बरकरार रखना चाहते हैं तो आपको बसंत पंचमी पर भगवति रति और कामेदव की पूजा जरूर करनी चाहिए.

Jaya Ekadashi 2022: कब है माघ शुक्ल जया एकादशी, जानें व्रत, तिथि और पूजा विधि

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें