CM अशोक गहलोत का ऐलान, दिवाली से पहले 7.30 लाख लोगों को मिलेगा बोनस

Smart News Team, Last updated: 09/11/2020 08:42 PM IST
  • राजस्थान सरकार ने दिवाली के मौके पर सरकारी कर्मचारियों को तदर्थ बोनस देने और कोरोना वायरस महामारी के लिये हर माह की जा रही वेतन कटौती को आगे से स्वैच्छिक करने का फैसला किया है.
राजस्थान सरकार ने दिवाली के मौके पर सरकारी कर्मचारियों को तदर्थ बोनस देने फैसला किया है

जयपुर: राजस्थान सरकार ने दीपावली के खास अवसर पर सराकरी कर्मचारियों को बेहतरीन तोहफा दिया है. दरअसल, राजस्थान सरकार ने दिवाली के मौके पर तदर्थ बोनस देने और कोरोना वायरस महामारी के लिये हर माह की जा रही वेतन कटौती को आगे से स्वैच्छिक करने का फैसला किया है. इस बात की जानकारी सरकार की ओर से जारी बयान में दी गयी है. बयान में बताया गया कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कोविड-19 महामारी से उपजी विकट परिस्थितियों के बावजूद कर्मचारियों को दीपावली पर तदर्थ बोनस दिए जाने का निर्णय लिया है.

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की और से जानी बयान में कहा गया है कि मुख्यमंत्री की ओर से किए गए निर्णय के अनुसार कर्मचारियों को बोनस का 25 प्रतिशत हिस्सा नकद देय होगा और बाकी 75 प्रतिशत राशि कर्मचारी के सामान्य प्रावधायी निधि खाते (जीपीएफ) में जमा करवाई जाएगी. इसमें कहा गया है कि इसी प्रकार, एक जनवरी 2004 एवं इसके बाद नियुक्त कर्मचारियों को देय तदर्थ बोनस राज्य सरकार द्वारा एक पृथक योजना तैयार कर उसमें दिया जाएगा.

जयपुर हैरिटेज: BJP महापौर प्रत्याशी के पति पर लगा पार्षद की खरीद फरोख्त का आरोप

कर्मचारियों के बारे में बात करते हुए सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि पूर्व में अकाल, बाढ़, भूकम्प, अतिवृष्टि और भू-स्खलन जैसी आपदाओं के दौरान कर्मचारियों ने आगे आकर स्वेच्छा से वेतन कटौती करवाकर अपना योगदान दिया है. वहीं, मार्च में भी कोविड-19 का प्रकोप सामने आने पर अधिकारियों-कर्मचारियों के 29 संगठनों ने सरकार को संक्रमण रोकने और पीड़ितों की सहायतार्थ वेतन से कटौती का अनुरोध किया था. बता दें कि राजस्थान राज्य में करीब 7.30 लाख से अधिक कर्मचारियों को तदर्थ बोनस दिए जाने से राजकोष पर करीब 500 करोड़ रूपये का वित्तीय भार आना संभावित है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें