धनतेरस पर बर्तन खरीदने के लिए राजस्थान के जयपुर उदयपुर जोधपुर कोटा, एमपी भोपाल इंदौर में शुभ मुहूर्त

Anurag Gupta1, Last updated: Mon, 1st Nov 2021, 1:00 PM IST
  • कार्तिक कृष्ण त्रयोदशी के दिन धनतेरस मनाया जाता है. दिवाली के लिए शुभ खरीदारी करने के साथ धनवंतिर, कुबेर, लक्ष्मी, गणेश और यम की पूजा करते हैं. धनतेरस मुहूर्त सुबह 06 बजकर 19 मिनट और रात दस से 08 बजकर 11 मिनट और 20 सेकेंड तक रहेगा.
धनतेरस पर खरीदें बर्तन (फाइल फोटो)

हिंदू पंचांग के अनुसार कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को धनतेरस मनाया जाता है. इस बार धनतेरस 2 नवंबर दिन मंगलवार को पड़ रहा है. धनतेरस पर बर्तन, सोना-चांदी के आभूषण, भूमि, संपत्ति, वाहन, भोग विलास की वस्तुएं आदि खरीदना अत्यंत शुभ होता है. लोग इस दिन नया व्यापार व्यवसाय भी शुरू करते हैं. माना जाता है इस दिन लक्ष्मी पूजा करने से समृध्दि आती है और इस दिन किए कार्य शुभ होते हैं और धन की कभी कमी नहीं रहती है. धनतेरस के दिन धनवंतिर, कुबेर, लक्ष्मी, गणेश और यम की पूजा करते हैं. इसमें लोग आभूषणों, भूमि, संपत्ति, वाहन और अन्य भौतिक वस्तुओं की खरीदी करते हैं. धनतेरस पर बर्तन खरीदने का जानें शुभ मुहूर्त और पूजा विधि.

Dhanteras 2021: 19 साल बाद धनतेरस पर बन रहा हस्त नक्षत्र और त्रिपुष्कर योग का संयोग, दीवाली तक करें खूब खरीदारी

बर्तन खरीदने का महत्व:

वैसे तो धनतेरस खरीदारी का त्योहार माना जाता है इस दिन लोग जमकर खरीदारी करते है. आभूषण, गाड़ी से जमीन तक खरीदते है लेकिन बर्तन खरीदने की अलग ही मान्यता है इसलिए लोग बर्तन जरूर खरीदते हैं. पीतल के बर्तन के पीछे मान्यता छुपी है. माना जाता है समुद्र मंथन के दौरान जब भगवान धन्वन्तरि का अवतरण हुआ था, तब वो अपने दो बायें हाथों में से एक में अमृत से भरा पीतल का कलश लिये हुए थे और उनके बाकी हाथों में शंख, चक्र और औषधी विद्यमान थी, लिहाजा इस दिन पीतल का बर्तन खरीदना बहुत ही शुभ होता है. पीतल के बर्तन खरीदकर उसमें कुछ मीठा या अक्षत डालकर घर लाएं. धनतेरस पर किसी चीज़ से भरा हुआ पीतल का बर्तन लाना बड़ा ही अच्छा माना जाता है.

धनतेरस पूजा मुहूर्त और खरीदने का शुभ समय:

धनतेरस पूजा मुहूर्त सुबह 06 बजकर 19 मिनट और रात दस से 08 बजकर 11 मिनट और 20 सेकेंड तक रहेगा. इस समय अवधि में धन्वंतरि देव की पूजा की जाएगी.

अभिजीत मुहूर्त– सुबह 11:42 से 12:26 तक

वृषभ काल– शाम 06:18 से 08:14: तक

गोधूलि मुहूर्त- शाम 05:05 से 05:29 तक

प्रदोष काल- शाम 05:35 से 08:14 तक

निशिता मुहूर्त- रात्रि 11:16 से 12:07 तक.

धनतेरस पूजा विधि:

घर के ईशान कोण में ही पूजा करें. मुंह ईशान, पूर्व या उत्तर में होना चाहिए. पंचदेव यानी सूर्यदेव, श्रीगणेश, दुर्गा, शिव और विष्णु की स्थापना करें. भगवान लक्ष्मी, कुबेर व धन्वंतरि की मूर्ति का स्थापना करें. मूर्ति के आगे दीप और धूपबत्ती जलाए. देवी देवताओ को धूप, दीप जलाकर मस्तक पर हल्दी, कुमकुम, चंदन, चावल लाल फूल अर्पित करें. पूजा के दौरान अनामिका अंगुली से गंध यानी चंदन, कुमकुम, अबीर, गुलाल, हल्दी आदि लगाना चाहिए। षोडशोपचार की सभी सामग्री से पूजा कर मंत्र जाप करें. धन्वंतरि देव की षोडशोपचार या 16 क्रियाओं से पूजा करें. पाद्य, अर्घ्य, आचमन, स्नान, वस्त्र, आभूषण, गंध, पुष्प, धूप, दीप, नेवैद्य, आचमन, ताम्बुल, स्तवपाठ, तर्पण और नमस्कार. अंत में सांगता सिद्धि के लिए दक्षिणा भी चढ़ाएं. घर या मंदिर में जब भी विशेष पूजा करें तो इष्टदेव के साथ स्वस्तिक, कलश, नवग्रह देवता, पंच लोकपाल, षोडश मातृका, सप्त मातृका का पूजन भी किया जाता है. पूजा के दौरान लक्ष्मी मंत्र का जाप करें और कुछ मीठे का भोग लगाए. याद रखें नमक, मिर्च और तेल का प्रयोग नैवेद्य में नहीं होगा. हर पकवान पर एक तुलसी पत्ता भी रखें. घर के हर कोने में दीपक जलाए. अंत में आरती करते हुए नैवेद्य चढ़ाकर पूजा पूरी करें.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें