Diwali 2021: जानिए कब है दिवाली 2021, लक्ष्मी-गणेश पूजन विधि और शुभ मुहूर्त

Anuradha Raj, Last updated: Mon, 20th Sep 2021, 2:08 PM IST
  • दीवाली के पर्व का हिंदू धर्म में बहुत ही ज्यादा महत्व होता है. इस दिन मां लक्ष्मी और गणेश की पूजा विधि-विधान से की जाती है तो सारी मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती है.
Diwali 2021

दिवाली के त्योहार का हिंदू धर्म में बेहत ही महत्व होता है. ऐसे में हिंदू पंचांग पर गौर करें तो हर साल कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि को दीपावली का त्योहार मनाया जाता है. इस बार 4 नवंबर यानी गुरुवार को कार्तिक आमावस्या है. मां लक्ष्मी और भगवान गणेश की दिवाली के मौके पर विशेष प्रकार से पूजा-अर्चना की जाती है. ऐसी मान्यता है कि मां लक्ष्मी की पूजा दिवाली पर अगर विधि-विधान से की जाए तो घर में सुख-समृद्धि और यश आती है. इसके साथ ही धन की कोई कमी भी नहीं रहती जीवन में.

कब है 2021 में दिवाली

4 नवंबर 2021 को है दिवाली

कब से कब तक है अमावस्या तिथि-

सुबह 6 बजकर 3 मिनट से 4 नवंबर को अमावस्था तिथि आरंभ हो जाएगी, जो 5 नवंबर 2 बजकर 44 मिनट पर समाप्त हो जाएगी. इस बार दिवाली पर लक्ष्मी-गणेश पूजन मुहूर्त शाम के 6 बजे से लकेर रात के 8 बजकर 20 मिनट तक माना जा रहा है. देखा जाए तो पूजन की कुल अवधि 1 घंटे 55 मिनट ही है.

ऐसे करें पूजन

सबसे पहले पूजा का संकल्प लें

श्रीगणेश, लक्ष्मी और सरस्वती के संग कुबेर का पूजन जरूर करना चाहिए.

11 बार या एक माला ऊं श्रीं श्रीं हूं नम: का जाप करें

एकाक्षी नारियल या फिर 11 कमलगट्टे को पूजा स्थान पर जरूर रखें

श्रीयंत्र की पूजा जरूर करें, और उत्तर की दिशा में प्रतिष्ठापित करें

देवी सूक्तम का पाठ करना ना भूलें.

ऐसे लगाएं मां लक्ष्मी को भोग

लक्ष्मी जी की पूजा करने के लिए फलों में सिघाड़ा, अनार,श्रीफल अर्पित करना चाहिए. सीताफल को भी दिवाली की पूजा में रखते हैं. इतना ही नहीं दिवाली की पूजा में  कुछ लोग ईख रखना भी शुभ मानते हैं. नदी के किनारे सिंघाड़ा पाया जाता है, यही कारण है कि मां लक्ष्मी को सिंघाड़ा बहुत ज्यादा पसंद है. तो वहीं मिष्ठान में मां लक्ष्मी को केसरभात, चावल की खीर जिसमें केसर पड़ा हो या फिर हलवा का भोग लगा सकते हैं.

 

 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें