जयपुर में रेमडेसिविर इंजेक्शन ब्लैक करते पकड़ा गया सरकारी डॉक्टर

Smart News Team, Last updated: Sat, 8th May 2021, 12:33 PM IST
  • चिकित्सकों को धरती का भगवान कहा जाता है . लोग डॉक्टर्स पर विश्वास करते हैं . लेकिन, इस कोरोना महामारी को जयपुर के एक डॉक्टर ने कमाई का ज़रिया बनाया और रेमडेसिविर इंजेक्शन ब्लैक करने लगा .  पुलिस ने डॉक्टर, दो दलाल समेत तीन लोगों को गिरफ्तार किया है .
प्रतिकात्म तस्वीर

जयपुर में रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी करते हुए सरकारी डॉक्टर को ही पुलिस ने धर दबोचा . जयपुर के अग्रवाल फार्म स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी चिकित्सक अमित कुमार सेठी को दो दलालों समेत पुलिस ने दबोचा है . गिरोह यह इंजेक्शन 30-30 हजार रुपए में ब्लैक कर रहा था . बड़ी बात यह है कि एक दलाल एसएमएस अस्पताल का वार्डबॉय है तो दूसरा निजी लैब में काम करता है . पुलिस ने सबसे पहले एक दलाल को पकड़ा और उसके बाद दूसरे तक पहुंची . दोनों दलालों के बाद टीम ने डॉक्टर को दबोच लिया .

बता दें कि जिला विशेष टीम के सदस्य मोहनलाल को रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी की सूचना मिली तो पुलिस ने बोगस ग्राहक बनकर दलाल अभिजीत से संपर्क किया . दलाल ने 60 हज़ार रुपए में दो इंजेक्शन देने को कहा और अंबाबाड़ी बुलाया . वहां दो इंजेक्शन के साथ उसे पकड़ लिया गया . अभिजित एसएमएस अस्पताल में वार्डबॉय है . इसके बाद आरोपी ने बताया कि वह इंजेक्शन छोटूलाल सैनी से लाया था . छोटूलाल निजी लैब में सैंपल कलेक्शन का काम करता है . छोटूलाल को जब पुलिस ने पकड़ा तो उसने बताया कि इंजेक्शन सरकारी चिकित्सक अमित कुमार से लाया था . जांच के बाद सूचना पुख्ता होने पर डॉक्टर अमित को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया . पुलिस अब आरोपियों से यह पूछताछ कर रही है कि आखिर वे इंजेक्शन कहां से लाए थे और अब तक कितने इंजेक्शन उन्होंने बेचे हैं .

 

इधर, डॉक्टर अमित कुमार की गिरफ्तारी के बाद उनकी पत्नी का आरोप है कि अमित निजी अस्पताल में मरीज नहीं भेजते है . इसलिए उन्हें फंसाया जा रहा है .जबकि डॉक्टर ​अमित को केंद्र और राज्य सरकार सर्वश्रेष्ठ कार्य के लिए पुरस्कृत कर चुकी है . तीनों आरोपियों को एक दिन की रिमांड अवधि पूरी होने पर फिर कोर्ट में पेश किया जाएगा . कार्रवाई को विद्याधर नगर थाना पुलिस ने अंजाम दिया है। आरोपियों से दो इंजेक्शन बरामद हुए है .

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें