राजस्थान यूनिवर्सिटी में खिल उठी 'गुलदाउदी' इस बार नहीं खरीद पाएंगे हम और आप

Smart News Team, Last updated: Sat, 12th Dec 2020, 11:11 AM IST
  • इस बार 3 दिनों तक लगने वाली प्रदर्शनी को कोरोना संक्रमण के चलते हुए स्थगित किया गया है. इसके साथ ही इस बार यह बिक्री यूनिवर्सिटी से जुड़े हुए संस्थानों के लिए ही रखी गई है. आम लोगों के लिए गुलदाउदी की खरीदारी नहीं हो पाएगी.
राजस्थान यूनिवर्सिटी में खिले गुलदाउदी

जयपुर. राजस्थान यूनिवर्सिटी के गार्डन में गुलदाउदी खिल चुकी है. कोरोना के बीच गुलदाउदी को बड़ी मेहनत से तैयार की गई है. हालांकि इस बार पिछले वर्षों के मुकाबले कम गमले तैयार किए गए हैं. कोरोना के बीच तैयार की गई गुलदाउदी की इस बार खास होगी. गुलदाउदी की बिक्री शुरू हो चुकी है. बता दें कि राजस्थान विश्वविद्यालय में 1986 से हर साल गुलदाउदी के फूलों की प्रदर्शनी लगाई जाती रही है. 

गुलदाउदी के चाहने वालों को अपनी पसंद के फूल चुनने में आसानी होती है. इस बार लगभग 25 से 30 किस्में तैयार की गई है. हालांकि पिछले वर्षों के मुकाबले किस्मों में कमी आई है. वहीं इस बार लगभग चार हजार गमले ही तैयार किए गए हैं. कोरोना के चलते गुलदाउदी के किस्म और संख्या पर असर पड़ा है. राजस्थान यूनिवर्सिटी नर्सरी इंचार्ज राम अवतार शर्मा का कहना है कि इस बार 3 दिनों तक लगने वाली प्रदर्शनी को कोरोना संक्रमण के चलते हुए स्थगित किया गया है. इसके साथ ही इस बार यह बिक्री यूनिवर्सिटी से जुड़े हुए संस्थानों के लिए ही रखी गई है. आम लोगों के लिए गुलदाउदी की खरीदारी नहीं हो पाएगी. 

जयपुर में 15 दिसंबर के बाद 4 डिग्री तक गिर सकता है पारा

इस साल गुलदाउदी की किस्मों में भी थोड़ी बढ़ोतरी की गई है. ऐसे में गुलदाउदी प्रेमियों को प्रदर्शनी और खरीदारी के लिए अगले साल तक का इंतजार करना पड़ेगा. बता दें कि जब इस गुलदाउदी प्रदर्शनी के बाद बिक्री का दिन आता था तो महज कुछ घंटे में करीब पांच हजार गमले बिक जाते थे. गुलदाउदी के पौधे आंगन की शान बढ़ाते हैं. वहीं, फूलों के चाहने वालों में इसका खासा क्रेज होता है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें