जयपुर : बिना डॉक्टर प्रिस्क्रिप्शन एंटीवायरल दवा बेचते हुए दो फ़र्मो पर कार्रवाई

Smart News Team, Last updated: Sun, 9th May 2021, 2:29 PM IST
  • जयपुर के बर्फखाना स्थित दो मेडिकल फर्मों पर औषधि नियंत्रण विभाग ने कार्रवाई की है . ये दोनों फर्म बिना डॉक्टर प्रिस्क्रिप्शन के कोविड में काम आने वाले एंटीवायरल दवा बेच रहे थे . दोनों फर्मों से पिछ्ले दिनों बेची गई एंटीवायरल दवाओं का रिकॉर्ड भी मिला है .
प्रतिकात्मक तस्वीर

राजधानी में बिना डॉक्टर प्रिस्क्रिप्शन के एंटीवायरल दवा बेचते हुए दो फर्मों के खिलाफ कार्रवाई  की गई है . दरअसल, चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा के निर्देश पर बनी औषधि नियंत्रक कमेटी ने एक आम नागरिक की शिकायत पर आदर्श नगर स्थित कई मेडिकल दुकानों का निरीक्षण किया . इस दौरान दो फर्मों पर बिना चिकित्सकीय पर्ची के अवैध बिक्री करने पर कार्रवाई की गई .

औषध नियंत्रक राजाराम शर्मा ने बताया कि टीम के पास स्थानीय नागरिक की ओर से कोविड के उपचार में काम आने वाली एंटीवायरल औषधि फेविपिराविर की बिना चिकित्सकीय पर्ची व अवैध बिक्री की शिकायत आई थी .  इस पर सहायक औषधि नियंत्रक दिनेश कुमार तनेजा के नेतृत्व में औषधि नियंत्रण अधिकारियों की टीम ने बर्फखाना व आदर्श नगर स्थित कई मेडिकल स्टोर पर बोगस ग्राहक बनाकर भेजा . इस दौरान मेसर्स यूनिक मेडिकोज, आदर्श नगर के मालिक सचिन गर्ग ने बिना चिकित्सकीय पर्ची के 8 टेबलेट मांगने पर पूरी 17 टेबलेट की स्ट्रिप दी . जिसकी एमआरपी 1190 रुपए ली गई और बिल भी नहीं दिया . उन्होंने बताया कि दबिश में फेविपिराविर औषधि की 34 टेबलेट पाई गई . जाँच करने पर पाया गया कि संस्था पर नियुक्त रजिस्टर्ड फार्मासिस्ट रघुनन्दन वर्मा की अनुपस्थिति में फर्म मालिक व स्टाफ की ओर से शेड्यूल एच सहित सभी औषधियों का विक्रय किया जा रहा है . जाँच में यह भी पाया गया कि पिछले 15 दिनों में फेविपिराविर की लगभग 950 टेबलेट का विक्रय बिना बिल किया गया है .

युवाओं में टीके के लिए भारी उत्साह, लेकिन जयपुर में पड़ रहा वैक्सीन का ही टोटा

 

वहीं, बर्फखाना स्थित फर्म मेसर्स जैन मेडिकल एण्ड प्रोविजन स्टोर पर भी ऑपरेशन किया गया . जिसमें फर्म मालिक राहुल जैन ने बिना चिकित्सकीय पर्ची के कोविड के उपचार के काम में आने वाली औषधि को बिना बिल जारी किए रजिस्टर्ड फार्मासिस्ट की अनुपस्थिति में बेचा . फर्म से मांगने पर भी औषधि का विक्रय बिल नहीं दिया गया . इसी प्रकार 107 टेबलेट फेविपिराविर एवं एजिथ्रोमाइसिन की 36 टेबलेट का विक्रय  भी बिना बिल के किया गया . औषध नियंत्रक ने बताया कि दोनों फर्मों को डॉक्टर के मूल प्रिस्क्रिप्शन पर ऎसी दवाओं को विक्रय करने की हिदायत दी गई . साथ ही दोंनो फर्मों के खिलाफ कठोर कार्रवाई के लिए विभाग द्वारा नोटिस जारी किया गया है .

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें