'विजय का किला' नाम से मशहूर है जयगढ़ दुर्ग, यहीं रखी गई दुनिया की सबसे बड़ी तोप

Smart News Team, Last updated: Tue, 6th Jul 2021, 12:00 AM IST
  • जयपुर का जयगढ़ का किला, जिसे विजय का किला के नाम से भी जाना जाता है. शहर के 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यह किला आमेर के किले से भी 400 फीट की ऊंचाई पर स्थित है.
जयपुर में ऐसी कई इमारतें हैं जो यहां के गौरवशाली इतिहास का प्रमाण प्रस्तुत करती हैं. (Credit: Jaipur Tourism Official Site)

जयपुर राजस्थान की राजधानी होने के साथ-साथ यहां की संस्कृति और परंपरा का भी अनूठा नमूना है. जयपुर में ऐसी कई इमारतें हैं जो यहां के गौरवशाली इतिहास का प्रमाण प्रस्तुत करती हैं. इन्हीं में से एक इमारत है जयपुर का जयगढ़ का किला, जिसे विजय का किला के नाम से भी जाना जाता है. शहर के 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यह किला आमेर के किले से भी 400 फीट की ऊंचाई पर स्थित है.

कहा जाता है कि जयगढ़ किले को जयपुर के आमेर के किले की अनदेखी और संरक्षण के लिए साल 1726 में बनवाया गया था. लाल रेत के पत्थरों से निर्मित इस किले को राजाओं और शाही परिवार के एक आवासीय स्थान के रूप में तैयार किया गया था. लेकिन बाद में इसका इस्तेमाल हथियारों के संरक्षण के लिए होने लगा. भव्य किले में विशाल हथियार, तोपों और अन्य हथियारों को संगठित करने के लिए कई परिसर भी तैयार किये गए हैं. कहा जाता है कि यह किला 3 किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है और यहां पर दुनिया की सबसे बड़ी तोप भी रखी गई है. तोप का कुल वजन जहां 50 टन है तो वहीं इसके बैरल की लंबाई 20.19 फूट है. इसके साथ ही तोप का व्यास 11 इंच का है.

जयगढ़ किले को जयपुर के आमेर के किले की अनदेखी और संरक्षण के लिए साल 1726 में बनवाया गया था. (Credit: Jaipur Tourism Official Site)

जयगढ़ का किला जयपुर के तीनों किलों में सबसे ज्यादा मजबूत माना जाता है और अभी तक यह किसी भी युद्ध में जीता नहीं जा सका है. लोककथाओं के मुताबिक इस किले में खजाना दफनाया गया था, हालांकि वह खजाना कभी भी किसी को नहीं मिला. किले में बने लक्ष्मी विलास मंदिर, भैरव मंदिर और राम हरिहर मंदिर यहां के मुख्य आकर्षण में से एक हैं. इसके अलावा किले से दिखाई देने वाला शहर का नजारा भी काफी मनमोहक लगता है.

जयगढ़ का किला जयपुर के तीनों किलों में सबसे ज्यादा मजबूत माना जाता है और अभी तक यह किसी भी युद्ध में जीता नहीं जा सका है. (Credit: Jaipur Tourism Official Site)

कब घूमें: जयगढ़ का यह किला सुबह 9 बजे से शाम 5:30 बजे तक खुला रहता है. किले में एंट्री करने के लिए जहां भारतीय व्यस्कों को 50 रुपये का भुगतान करना होगा तो वहीं बच्चों के लिए टिकट की कीमत मात्र 30 रुपये है. इसके साथ ही विदेशियों को किले में घुसने के लिए 100 रुपये का भुगतान करना होगा.

जयगढ़ का यह किला सुबह 9 बजे से शाम 5:30 बजे तक खुला रहता है. (Credit: Jaipur Tourism Official Site)

कैसे पहुंचें: हवाई मार्ग, रेल मार्ग और सड़क मार्ग द्वारा यहां आसानी से पहुंचा जा सकता है. जयपुर एयरपोर्ट पहुंचने के बाद किले के लिए तमाम सार्वजनिक और निजी वाहन मिलते हैं जो किले तक आसानी से पहुंचा सकते हैं. वहीं किले का नजदीकी रेलवे स्टेशन जयपुर जंक्शन है, जहां से टैक्सी या ऑटो करके किले तक पहुंचा जा सकता है. इसके अलावा जयपुर शहर राज्यभर के दूसरे शहरों से भी जुड़ा हुआ है, ऐसे में सार्वजनिक या निजी बस और दूसरे वाहन के जरिए भी यहां पहुंचा जा सकता है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें