जयपुर: जासूस को पैसे देने के आरोपी का साथी मीरा खान भी गिरफ्तार

Smart News Team, Last updated: Wed, 9th Sep 2020, 10:03 PM IST
  • जयपुर. चौहटन बाड़मेर का रहने वाला है आरोपी मुश्ताक अली जासूसी के आरोप में गिरफ्तार आरोपी मुश्ताक अली की साथी को पुलिस ने किया गिरफ्तार
प्रतीकात्मक तस्वीर 

जयपुर। जासूसी के आरोप में गिरफ्तार आरोपी मुश्ताक अली के साथी मीरा खान को भी पुलिस ने मंगलवार को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. एक सहयोगी द्वारा मुश्ताक को पाकिस्तान से जासूसी की एवज में रूपए, मिठाई व अन्य सामान लाकर देने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था. पुलिस ने बताया कि पकड़ा गया आरोपी चौहटन बाड़मेर निवासी मीरा खान (38) पुत्र खैरा खान हैं. पुलिस ने पूछताछ के बाद थाना स्पेशल पुलिस स्टेशन पर शासकीय गुप्त बात अधिनियम 1923 के तहत मुकदमें में गिरफ्तार कर लिया.

एडीजी (इन्टेंलीजेंस) उमेश मिश्रा ने बताया कि पूछताछ में जानकारी मिली है कि दोनो के बीच आपसी जान-पहचान गाडी चलाने के दौरान सेडवा बाडमेर में हुई थी.

कुछ महीने पाकिस्तान में रहकर लौट मुस्ताक और मीरा खान

मुलाकात के बाद मुश्ताक अली द्वारा मीरा खान को दिल्ली ले जाकर पाकिस्तान जाने का वीजा लगवाया गया. मुश्ताक अली व मीरा खान नवम्बर 2018 में पाकिस्तान चले गये तथा पाकिस्तान में भी कुछ समय साथ-साथ रहे. मुश्ताक अली एक माह रूककर दिसम्बर 2019 में पाकिस्तानी हैण्डलिंग अधिकारियों से मिलकर वापस आ गया तथा सीमाक्षेत्र की सामरिक महत्व की सूचनायें वाटस्एप के जरिये पाकिस्तान भेजने लगा.

गुप्त सूचनाएं देने के एवज में मिलते थे पाकिस्तान से पैसे

उक्त सूचनाओं की एवज में फरवरी 2019 में पाकिस्तानी खुफिया एजेन्टों द्वारा मुश्ताक अली के बैंक खाते में भेजा जाने लगा तथा नगद भारतीय मुद्रा मीरा खान के जरिये प्राप्त करने लगा. मीरा खान पाकिस्तान में तीन माह रूकने के बाद 09 फरवरी 2019 को भारत आया.

बालाकोट स्ट्राइक व पुलवामा आतंकी हमले की जानकारी भी भेजी थी पाकिस्तान

इस दौरान मुश्ताक अली द्वारा 14 फरवरी 2019 को पुलवामा आंतकी हमला तथा 26 फरवरी को बालाकोट स्ट्राइक के आस-पास फरवरी 2019 से अप्रैल 2019 तक जैसलमेर बाडमेर सीमाक्षेत्र की सैन्य गतिविधियों की मूवमेन्ट तथा डिप्लोयेमेन्ट सम्बन्धी सूचनायें पाकिस्तान भेजी जाकर जासूसी के एवज में धनराषि व अन्य सामान प्राप्त किया.

इस तरह देश की सुरक्षा संबंधी गतिविधियों की जानकारी पाकिस्तान भेजी जा रही थी. लगातार नजर बनाए रखने के बाद दोनों को गिरफ्तार किया गया. दोनों ने देश की कई गुप्त सूचनाएं पाकिस्तान को भेजी थी. इंटेलिजेंस टीम अभी ही अन्य बिंदुओं की तलाश कर रही है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें