7 सितंबर के मानसरोवर से चांदपोल के बीच चलेगी जयपुर मेट्रो, स्मार्ट कार्ड जरूरी

Smart News Team, Last updated: 03/09/2020 08:32 AM IST
  • मेट्रो में स्मार्ट कार्ड पर ही कर सकेंगे सफर. कोच में एक सीट छोड़ कर दूसरी सीट पर लगा होगा रेड क्रॉस का निशान, जहां नहीं बैठेंगे यात्री. मास्क पहन कर ही कर सकेंगे यात्रा.
प्रतीकात्मक तस्वीर

सरकार के गाइडलाइन कर अनुसार आगामी 7 सितंबर से जयपुर सहित देश भर में मेट्रो रेल सेवा बहाल होंगे. जयपुर मेट्रो रेल की शुरुआत मानसरोवर से चांदपोल तक ही होगा. वहीं इसमें यात्रा के लिए तमाम गाइड लाइन बनाए गए हैं, जिसके बाद मेट्रो सेवा का लाभ ले सकेंगे. हालांकि की मेट्रो रेल सेवा शुरू कराने के लिए कमर्चारी सभी तैयारियों को अंतिम रूप देने में लगे हैं.

पांच माह 17 दिन के बाद 7 सितंबर से शुरू होने वाली मेट्रो में यात्रा करते समय स्मार्ट कार्ड होना अनिवार्य है तभी सफर कर सकेंगे. अन्यथा मेट्रो स्टेशन के एंट्री गेट पर ही रोक दिया जाएगा. स्मार्ट कार्ड को मेट्रो की वेबसाइट, एक्यूआर कोड़ और पॉश मशीन से रीचार्ज किया जा सकता है.

यात्रा के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का पालना करना होगा. इसके लिए मेट्रो प्रशासन द्वारा मेट्रो स्टेशनों पर दो गज की दूरी पर गोले बना दिए गए हैं. वहीं कोच में एक सीट छोड़ कर दूसरी सीट पर रेड क्रॉस का निशान लगाया गया है. एक कोच में अधिकतम 50 से ज्यादा लोग सफर नहीं कर सकेंगे. वहीं अब रात 10 बजे तक मेट्रो का संचालन नहीं होगा.

मेट्रो में सोशल डिस्टेंसिंग की पालना कराने के साथ ही अन्य व्यवस्थाओं के सुचारू रूप से संचालन के लिए मेट्रो स्टेशनों पर अतिरिक्त पुलिस बल को तैनात किया जाएगा. सभी पुलिसकर्मियों को ड्यूटी करने के लिए चार्ट तैयार किया गया है कि किस पुलिसकर्मी की कौन से मेट्रो स्टेशन पर किस जगह पर तैनाती मिलेगी.

सफर में यात्री रेड क्रॉस लगी सीट पर नहीं बैठ सकेंगे. यात्री को स्टेशन में प्रवेश के दौरान मास्क लगाना अनिवार्य होगा. बिना मास्क के एंट्री नहीं मिलेगी. अभी यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी. निर्धारित से अधिक टैम्परेचर आने पर एंट्री गेट पर रोक दिया जाएगा. एसी को तापमान 24 से 28 डिग्री ही रखा जाएगा. लिफ्ट की अपेक्षा सीढ़ीयों का प्रयोग करना होगा. हाथों को सैनिटाइज करना होगा. सैनिटाइज के लिए मेट्रो प्रशासन ने हैंड सैनिटाइज मशीनें लगाई गयी हैं.

गाइड लाइन तहत मेट्रो के समय में भी परिवर्तन किया जाएगा. चांदपोल से बड़ी चौपड़ के बीच सरकार से हरी झंडी मिलने के बाद चलेगी. हालांकि मेट्रो प्रशासन की तरफ से मार्च में ही बड़ी चौपड़ मेट्रो स्टेशन तक का काम पूरा कर लिया गया था. इस रूट का मुंबई रेलवे की तरफ से सेफ्टी सर्टिफिकेट भी मिल चुका है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें