जयपुर: निजी स्कूल फीस, राजस्थान 31 अगस्त बंद में वकील, व्यापारी, किसान भी कूदे

Smart News Team, Last updated: 27/08/2020 06:52 PM IST
  • राजस्थान में निजी स्कूलों की फीस वसूली के खिलाफ संघर्ष कर रहे अभिभावकों को जयपुर व्यापार मंडल, डिस्ट्रिक्ट बार एसोसिएशन जयपुर, किसान महापंचायत सहित प्रदेश भर के 300 संगठनों का समर्थन
राजस्थान में 31 अगस्त को कोरोना लॉकडाउन में भी फीस मांग रहे प्राइवेट स्कूलों के खिलाफ पैरेंट्स के बंद को व्यापक जनसमर्थन मिल रहा है.

जयपुर: लॉकडाउन से बिगड़े हालातों के बीच निजी स्कूलों की फीस वसूली के खिलाफ संघर्ष कर रही संयुक्त अभिभावक समिति के 31 अगस्त के राजस्थान बंद को वकील, व्यापारी और किसान संगठनों का व्यापक समर्थमन मिला है. डिस्ट्रिक्ट बार एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. सुशील शर्मा और जयपुर व्यापार मंडल के अध्यक्ष डॉ ललित सिंह सांचोरा ने वीडियो संदेश जारी कर लोगों से बंद में शामिल होने की अपील की है.

संयुक्त अभिभावक समिति के प्रवक्ता मनोज शर्मा और अरविंद अग्रवाल ने बताया कि प्रदेश का अभिभावक पीड़ित है. निजी स्कूल संचालकों और राज्य सरकार से 'जब तक स्कूल नहीं, तब तक फीस नही' की गुहार लगा रहे हैं. 

अभिभावक सड़कों पर उतरकर विरोध प्रदर्शन और निवेदन कर रहे हैं. राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री सहित सभी राज्यों के मुख्यमंत्री और प्रमुख राजनीतिक दलों को ज्ञापन भेंट कर चुके हैं, लेकिन अभी तक कोई राहत नहीं मिली है. इसको लेकर संयुक्त अभिभावक समिति ने 31 अगस्त को राजस्थान बंद का आह्वान किया है.

कोरोना काल में फीस वसूलने को स्कूलों का ब्रह्मास्त्र, मार्कशीट लेने आओ और…

बंद को सफल बनाने के लिए समिति के पदाधिकारी विभिन्न सामाजिक व व्यापारिक संगठनों से समर्थन मांग रहे हैं. समिति के महामंत्री मनीष विजयवर्गीय और प्रवक्ता ईशान शर्मा ने बताया कि अभी तक प्रदेश स्तर पर करीबन 300 से अधिक सामाजिक संगठनों ने बंद को समर्थन दिया है.

कोरोना काल: बच्चों की फीस वसूलने को स्कूलों का प्लान B, जानकर दंग रह जाएंगे

बंद को किसान महापंचायत का भी समर्थन मिला है. समिति के पदाधिकारियों ने मंगलवार को किसान पंचायत के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामपाल जाट से मुलाकात की और अभिभावकों की स्थिति से अवगत करवाया, जिसके बाद रामपाल जाट ने किसान महापंचायत के साथ जुड़े सभी 50 किसान संगठनों के साथ बंद में शामिल होने की घोषणा की.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें