जयपुर: हत्या के मामले में फरार अभियुक्त 38 साल बाद पुलिस ने किया गिरफ्तार

Smart News Team, Last updated: 11/09/2020 08:20 AM IST
  • जयपुर. पुलिस ने बताया अपने करीब आठ साथियों के साथ मिलकर राजेंद्र सिंह की किसी बात को लेकर हत्या कर दी थी. इनमें से सात अपराधियों को 21 साल पहले 11 अक्टूबर 1999 को आजीवन कारावास की सजा सुनाई जा चुकी है. 38 साल से हत्या के एक मामले में फरार चल रहे अभियुक्त को पुलिस ने देर रात गिरफ्तार कर लिया.
प्रतीकात्मक तस्वीर

जयपुर| 38 साल से हत्या के एक मामले में फरार चल रहे अभियुक्त को पुलिस ने देर रात गिरफ्तार कर लिया. इस व्यक्ति ने अपने आठ साथियों के साथ मिलकर एक युवक की हत्या कर दी थी. जिसमें सात व्यक्तियों को तो न्यायालय ने आजीवन कारावास की सजा सुना दी है. जबकि यह अब तक फरार चल रहा था. देर रात पुलिस को सूचना मिली कि हत्या में नामजद आरोपी इनामी अपने परिजनों से मिलने आया है. इस पर पुलिस ने घेराबंदी करते हुए अभियुक्त को गिरफ्तार कर लिया.

वर्ष 1982 में सवाई माधोपुर के रहने वाले राजेंद्र सिंह नामक युवक की हत्या जितेंद्र ने अपने आठ साथियों के साथ मिलकर की थी. इस मामले में जयपुर के सोडाला थाने में मुकदमा दर्ज कराया गया था. पुलिस ने जानकारी देते हुए पुलिस ने बताया अपने करीब आठ साथियों के साथ मिलकर राजेंद्र सिंह की किसी बात को लेकर हत्या कर दी थी. इस मामले में पुलिस ने वारदात की कुछ दिनों बाद 8 लोगों को गिरफ्तार किया था. इनमें से सात अपराधियों को 21 साल पहले 11 अक्टूबर 1999 को आजीवन कारावास की सजा सुनाई जा चुकी है. मगर आरोप करने वाला जितेंद्र सिंह अब तक फरार चल रहा था.

फरार हुए अपराधी को पकड़ने के लिए पुलिस ने कई टीमें बनाई थी. मगर उन्हें कोई भी सफलता हाथ नहीं लगी. 1982 में वारदात करने के बाद गिरफ्तारी से बचने के लिए आरोपी जितेंद्र अलग-अलग स्थानों पर अपनी पहचान छुपाकर रहता रहा. इस बीच पुलिस द्वारा लंबे समय से फरार चल रहे अपराधियों को पकड़ने के लिए स्पेशल टीमें बनाई गई. इस टीम ने जितेंद्र को पकड़ने के लिए उसके परिजनों और गांव के कुछ लोगों से पूछताछ की. मोबाइल के जरिए लोकेशन पता लगाने की कोशिश की गई.

शेष बची यूजी-पीजी की परीक्षाओं के लिए गाइडलाइन जारी

पुलिस की टीम को इसी बीच आरोपी के जयपुर स्थित घर पर भी लगातार नजर रखी गई. देर रात आरोपी अपने परिजनों से मिलने के लिए घर पहुंचा. इसका पता पुलिस को लगा तो उसने तुरंत जितेंद्र को गिरफ्तार कर लिया. जितेंद्र पहले से हत्या के मामले में लल्लन सिंह, भंवर सिंह, राम सिंह, लोकेश, गजराज सिंह, शशि पाल, बृजेंद्र सिंह और मुकेश उर्फ पप्पी को पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है. जिनमें से साथ अपराधियों को आजीवन कारावास की सजा भी हो चुकी है. जितेंद्र की गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने उस पर दो हज़ार का इनाम भी घोषित किया था. 38 साल बाद पकड़े गए आरोपी को गिरफ्तार करने वाली टीम को बधाई दी गई है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें