जयपुर: आरयू ने टाइम टेबल निकाला, पर नहीं बताया किसे देनी है परीक्षा

Smart News Team, Last updated: 17/09/2020 08:26 AM IST
  • जयपुर.  राजस्थान यूनिवर्सिटी ने कहा- 2 साल की एकेडमिक डिग्री के लिए है परीक्षा बुधवार को एलएलबी सेकंड ईयर का टाइम टेबल देखकर हजारों छात्र हुए परेशान.
राजस्थान यूनिवर्सिटी

जयपुर। राजस्थान यूनिवर्सिटी ने हाल ही में एक टाइम टेबल जारी किया गया है जिसको लेकर छात्रों में असमंजस की स्थिति बनी हुई है. टाइम टेबल में किसी भी कक्षा का कोई जिक्र नहीं किया गया है. सिर्फ परीक्षा को लेकर तिथि व सब्जेक्ट जारी कर दिए गए हैं. किस वर्ष के छात्रों को परीक्षा देनी है, यह नहीं दर्शाया गया है. इससे छात्रों में उहापोह की स्थिति बनी हुई है. राजस्थान यूनिवर्सिटी का परीक्षा विभाग परीक्षा शुरू करने से पहले ही छात्रों को असमंजस में डाल रहा है.

यूनिवर्सिटी के सभी कोर्सेज के फर्स्ट, सेकंड ईयर के छात्र प्रमोट हो चुके हैं. लेकिन बुधवार को अचानक एलएलबी सेकंड ईयर का टाइम टेबल देखकर हजारों छात्र परेशान हो गए, उसमे 25 सितंबर से परीक्षा शुरू होनी है. ऐसे में अचानक आये टाइम टेबल को देखकर कई छात्र परीक्षा नियंत्रक को घेरने पहुंच गए जबकि बीसीआई और फिर यूनिवर्सिटी ने प्रमोट करने की बात कहकर अगले साल की फीस भी ले ली.

इधर, यूनिवर्सिटी का कहना है कि एलएलबी द्वितीय वर्ष पूरा करने पर एकेडमिक और 3 वर्ष पूरा करने पर प्रोफेशनल कोर्स की डिग्री मिलती है. ऐसे में एकेडमिक डिग्री लेने वालों का तो फाइनल दूसरा साल ही है.

बीसीआई से बात करे यूनिवर्सिटी प्रशासन

राजस्थान यूनिवर्सिटी ने क्लीयर नही किया है कि परीक्षा किसे देनी है, और किसे नही. यूनिवर्सिटी को इस संबंध में बार काउंसिल ऑफ इंडिया से बात करके निर्णय लेना चाहिए. ताकि एलएलबी कर रहे छात्रों के हित में निर्णय हो सके.

इन्होंने कहा

राजस्थान यूनिवर्सिटी एलएलबी में एकेडमिक और प्रोफेशनल दोनों तरह की डिग्री देती है. ऐसे में टाइम टेबल जारी किया गया है.

प्रो. विजय वीर सिंह, परीक्षा निदेशक

बीसीआई ने तीन वर्षीय एलएलबी में प्रथम, द्वितीय वर्ष और पंच वर्षीय कोर्स में 4 साल के छात्रों को प्रमोट करने के लिए कहा था. परीक्षा के लिए नही.

आरयू ने द्वितीय वर्ष का टाइम टेबल क्यों निकाला जानकारी नही है. हालात सामान्य होने पर परीक्षा हो सकती है.

सुरेश चंद्र श्रीमाली, एडवोकेट, को चेयरमैन बीसीआई

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें