जयपुर: अधिकमास में वाहन बिक्री में होगा तेजी से इजाफा

Smart News Team, Last updated: 09/09/2020 07:08 PM IST
  • शुभ संयोग: इस बार लम्बा चलेगा फेस्टिव सीजन विगत वर्ष की तुलना में 15 से 20 फीसदी ज्यादा रहेगी वाहन बिक्री.
प्रतीकात्मक तस्वीर 

जयपुर। जयपुर में वाहन विक्रेताओं को अधिकमास में वाहनों की अधिक बिक्री होने के आसार नजर आ रहे हैं. दरअसल इस वर्ष अधिकमास लगने से शुभ मुहूर्त के दिनों की संख्या में बढ़ोतरी हुई है जिसके चलते वाहनों की बिक्री में भी इसका असर देखने को मिल सकता है.जिसके चलते हर वर्ष की तुलना में इस बार 15 से 20 फ़ीसदी अधिक वाहन बिक्री होने की संभावना जताई जा रही है. 18 सितंबर से अधिकमास शुरू होने जा रहा है, जो 16 अक्टूबर तक रहेगा.

इस दौरान बाइक, कार, स्कूटर की खरीदारी को शुभ माना जाता है. यह भी बड़ा संयोग है कि अधिकमास और अंग्रेजी का लीप ईयर भी 160 साल बाद एक साथ आ रहे हैं. इसके बाद नवरात्र से दिवाली तक फेस्टिव सीजन जारी रहेगा. वैसे भी कोरोना महामारी पर अब बाजार का उछाल भारी पड़ रहा है. ऑटोमोबाइल्स सेक्टर की बात करें तो लॉकडाउन से अनलॉक की ओर कदम रखते ही चार पहिया और दुपहिया वाहनों की खरीदारी में इजाफा हुआ है.

जयपुर। जयपुर में वाहन विक्रेताओं को अधिकमास में वाहनों की अधिक बिक्री होने के आसार नजर आ रहे हैं.

दरअसल इस वर्ष अधिकमास लगने से शुभ मुहूर्त के दिनों की संख्या में बढ़ोतरी हुई है जिसके चलते वाहनों की बिक्री में भी इसका असर देखने को मिल सकता है.जिसके चलते हर वर्ष की तुलना में इस बार 15 से 20 फ़ीसदी अधिक वाहन बिक्री होने की संभावना जताई जा रही है.

18 सितंबर से अधिकमास शुरू होने जा रहा है, जो 16 अक्टूबर तक रहेगा.

इस दौरान बाइक, कार, स्कूटर की खरीदारी को शुभ माना जाता है. यह भी बड़ा संयोग है कि अधिकमास और अंग्रेजी का लीप ईयर भी 160 साल बाद एक साथ आ रहे हैं. इसके बाद नवरात्र से दिवाली तक फेस्टिव सीजन जारी रहेगा.

वैसे भी कोरोना महामारी पर अब बाजार का उछाल भारी पड़ रहा है. ऑटोमोबाइल्स सेक्टर की बात करें तो लॉकडाउन से अनलॉक की ओर कदम रखते ही चार पहिया और दुपहिया वाहनों की खरीदारी में इजाफा हुआ है.

कोरोना से बचने के लिए लोग कर रहे वाहन की खरीदारी

वाहनों के अधिक बिक्री का कारण कोरोना भी है. दरअसल कोरोना संक्रमण से बचने के लिए लोग ऑटो रिक्शा, बस और ट्रेन की बजाय अपने वाहन खरीदकर सफर करना ज्यादा सुरक्षित समझ रहे हैं. ऑटो एक्सपर्ट्स की माने, तो इस बार फेस्टिव सीजन लम्बा चलेगा. शुभ संयोग होने के चलते वाहन बिक्री के लिए 18 सितंबर से दिवाली तक का समय अच्छा रहेगा. एक तरफ जहां कोरोना के चलते पूरा देश थम से गया था. अब धीरे-धीरे कोरोना के चलते ही लोग अधिक से अधिक गाड़ियों की खरीदारी कर रहे हैं जिससे कि वह अपने आप को सुरक्षित रख सके. खुद की गाड़ी होने से वह कम से कम लोगों के संपर्क में आएंगे.

ऑफर्स भी दे रहे रफ्तार

मौजूदा समय में कंपनियां वाहनों पर 15000 से 70000 की छूट के अलावा कम डाउन पेमेंट जैसे ऑफर्स भी दे रही हैं. श्राद्ध पक्ष में भी ग्राहक आ रहे हैं. इसका कारोबार पर फिलहाल कोई असर नहीं है. नवरात्र आते-आते इस साल ग्रोथ पिछले साल के आंकड़ों को पछाड़ सकती है. कंपनियां आम ग्राहकों के साथ ही कोरोना वॉरियर्स को और अधिक छूट भी दे रही है.

वाहनों के अधिक बिक्री का कारण कोरोना भी है. दरअसल कोरोना संक्रमण से बचने के लिए लोग ऑटो रिक्शा, बस और ट्रेन की बजाय अपने वाहन खरीदकर सफर करना ज्यादा सुरक्षित समझ रहे हैं. ऑटो एक्सपर्ट्स की माने, तो इस बार फेस्टिव सीजन लम्बा चलेगा. शुभ संयोग होने के चलते वाहन बिक्री के लिए 18 सितंबर से दिवाली तक का समय अच्छा रहेगा. एक तरफ जहां कोरोना के चलते पूरा देश थम से गया था. अब धीरे-धीरे कोरोना के चलते ही लोग अधिक से अधिक गाड़ियों की खरीदारी कर रहे हैं जिससे कि वह अपने आप को सुरक्षित रख सके. खुद की गाड़ी होने से वह कम से कम लोगों के संपर्क में आएंगे.

वाहनों के अधिक बिक्री का कारण कोरोना भी है. दरअसल कोरोना संक्रमण से बचने के लिए लोग ऑटो रिक्शा, बस और ट्रेन की बजाय अपने वाहन खरीदकर सफर करना ज्यादा सुरक्षित समझ रहे हैं. ऑटो एक्सपर्ट्स की माने, तो इस बार फेस्टिव सीजन लम्बा चलेगा. शुभ संयोग होने के चलते वाहन बिक्री के लिए 18 सितंबर से दिवाली तक का समय अच्छा रहेगा. एक तरफ जहां कोरोना के चलते पूरा देश थम से गया था. अब धीरे-धीरे कोरोना के चलते ही लोग अधिक से अधिक गाड़ियों की खरीदारी कर रहे हैं जिससे कि वह अपने आप को सुरक्षित रख सके. खुद की गाड़ी होने से वह कम से कम लोगों के संपर्क में आएंगे.

 

 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें