जयपुर में जेडीए ने 20 करोड़ की जमीन को कराया अतिक्रमण मुक्त

Smart News Team, Last updated: Sat, 17th Oct 2020, 2:38 PM IST
  • जेडीए ने बीते बुधवार को नायला रोड पर मौजूद मित्तल कॉलेज के सामने 10 बीघा जमीन पर अवैध कॉलोनी बसाने का प्रयास विफल कर दिया है. इसके साथ ही उन्होंने जवाहर सर्किल ईपी गार्डन के पास मौजूद 20 करोड़ रुपये की 1500 वर्गगज भूमि को भी अतिक्रमण से मुक्त कराया है.
जयपुर में जेडीए द्वारा अतिक्रमण हटाने को रोकने की प्रक्रिया शुरू की जा चुकी है

जयपुर: जयपुर में जेडीए द्वारा अतिक्रमण हटाने और अवैध निर्माण को रोकने की प्रक्रिया शुरू की जा चुकी है. वहीं, हाल ही में जेडीए ने बीते बुधवार को नायला रोड पर मौजूद मित्तल कॉलेज के सामने 10 बीघा जमीन पर अवैध कॉलोनी बसाने का प्रयास विफल कर दिया है. इससे इतर जवाहर सर्किल ईपी गार्डन के पास मौजूद 1500 वर्गगज भूमि को भी अतिक्रमण से मुक्त कराया गया. जेडीए ने इस जमीन की कीमत करीब 20 करोड़ रुपये आंकी है. अतिक्रमण रोकने के साथ-साथ जेडीए ने शहर में हुए अवैध निर्माण को भी रोकने का काम किया है.

जेडीए के मुताबिक प्रवर्तन दस्ते ने बुधवार को लालबहादुर नगर में ई-37 के मालिक द्वारा बिना अनुमति के बेसमेन्ट के लिए जीरो सैटबैक पर पिल्लरों निर्माण शुरू किये जाने को भी ध्वस्त कर दिया. जेडीए ने अपनी कार्रवाई जारी रखते हुए निवासियों को नियमों से भी अवगत कराया. उनके मुताबिक कोई खातेदार बिना भू-उपयोग परिवर्तन करवाए खातेदारी जमीन पर आवासीय या व्यसायिक योजना लाता है तो उसकी खातेदारी निरस्त कर दी जाएग. वहीं, सरकारी जमीन पर कब्जा करने और खातेदारी जमीन पर अवैध योजना बनाने पर कॉपरेटिव रजिस्ट्रार संबंधित सोसायटी के खिलाफ मामला भी दर्ज कर सकते हैं.

जयपुर नगर निगम चुनाव में महिलाओं की भागीदारी, भाजपा-कांग्रेस पर यूं पड़ी भारी

जेडीए ने अपनी कार्यवाही सुचारू रूप से करने के लिए सभी जोन उपायुक्तों को सरकारी भूमि पर कब्जा करने वाले भूमाफियाओं के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के लिए पत्र लिखा है. इसी तरह इकोलॉजिकल जोन में भी कॉलोनी बसाने और पट्टे देने पर भी संबंधित सोसाइटी पर मामला दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी. बता दें कि जेडीए ने अपनी कार्रवाई के लिए काम को तीन वर्गों में विभाजित किया है, जिसमें पहले में अतिक्रमण से जुड़ी कार्यवाही, दूसरे में व्यावसायिक निर्माण से जुड़ी कार्यवाही और तीसरे में निजी मकानों के निर्माण से जुड़ी कार्यवाही शामिल है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें