सोशल मीडिया पर सबसे अधिक विद्यार्थी, फिर भी 3.5% के पास ही पहुँच रहा ई-कंटेंट

Smart News Team, Last updated: 20/09/2020 10:36 AM IST
  • जयपुर शिक्षा विभाग के स्माइल कार्यक्रम को लेकर जिले की स्थिति बहुत खराब है. ऑनलाइन अध्ययन के लिए जिले के केवल 3.5 फीसदी बच्चों तक ही कंटेंट पहुंच रहा है. इसी प्रकार 19.96 प्रतिशत शिक्षक विद्यार्थियों को प्रतिदिन फोन करके अध्ययन के लिए प्रेरित करने में जुटे हैं.
प्रतीकात्मक तस्वीर 

जयपुर|  शिक्षा विभाग के स्माइल कार्यक्रम को लेकर जिले की स्थिति बहुत खराब है. ऑनलाइन अध्ययन के लिए जिले के केवल 3.5 फीसदी बच्चों तक ही कंटेंट पहुंच रहा है.इसी प्रकार 19.96 प्रतिशत शिक्षक विद्यार्थियों को प्रतिदिन फोन करके अध्ययन के लिए प्रेरित करने में जुटे हैं. राजस्थान स्कूल शिक्षा परिषद ने हाल ही में ऑनलाइन शिक्षा कार्यक्रम की समीक्षा की.

प्रदेश में सबसे अधिक जयपुर जिले में 1 लाख 91 हजार 592 छात्र-छात्राएं सोशल मीडिया से जुड़े हैं. दूसरे नंबर पर भीलवाड़ा जिले के 1 लाख 64 हजार 126 विद्यार्थी सोशल मीडिया से जुड़े हैं. जिन्हें विभाग की ओर से ई कंटेंट भेजा जाना है.

लेकिन केवल 5,787 विद्यार्थियों तक ही ऑन लाइन पढाई का मेटेरियल पहुंच रहा है. जिसे स्कूल शिक्षा परिषद ने गंभीरता से लिया है.सभी मुख्य जिला शिक्षा अधिकारियों व समसा के एडीपीसी को 25 सितंबर तक 25 प्रतिशत बच्चों के जुड़ने और कॉलिंग

जयपुर: राजधानी बनी आग का दरिया, आसमान उगल रहा है आग

प्रतिशत 30 तक बढ़ाने के निर्देश दिए. एडीपीसी प्रहलाद पारीक ने बताया कि तमाम सोशल मीडिया ग्रुप स्कूल शिक्षा परिषद की ओर से मॉनिटर किए जा रहे हैं. अगर स्थिति में सुधार नहीं होता है तो व्यक्तिगत जिम्मेदारी तय की जाएगी. स्माइल कार्यक्रम के तहत प्रतिदिन प्रत्येक शिक्षक को पांच-पांच विद्यार्थियों को फोन कॉल करना अनिवार्य है.

इसमें सबसे कमजोर स्थिति बिजौलिया ब्लॉक की है. यहां केवल 4 प्रतिशत शिक्षकों ने ही कॉल किया. इसी प्रकार, आसींद में 10, कोटड़ी में 12, जहाजपुर में 5, बनेड़ा में 9, मांडल में 17, मांडलगढ़ में 38, रायपुर में 26, शाहपुरा में 6, सहाड़ा में 28, सुवाणा में 47 तथा हुरड़ा में 31 प्रतिशत शिक्षकों ने कॉल किए.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें