राजस्थान का सियासी घमासान समाप्त, गहलोत व सचिन बने पक्के दोस्त

Smart News Team, Last updated: 17/08/2020 08:13 AM IST
  • सचिन पायलट ने एक बार फिर से कांग्रेस की सरकार पर अपना भरोसा जताया
सचिन और गहलोत 

राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत अपनी सरकार को बचाए जाने में फिलहाल कामयाब दिखाई दे रहे हैं. वहीं सचिन पायलट ने अपनी सारी दुश्मनी भूलकर एक बार फिर से अशोक गहलोत का साथ दिए जाने के संकेत दे दिए हैं. बीते दिनों सचिन पायलट कांग्रेस से बागी हो गए थे जिसके बाद अशोक गहलोत की सरकार संकट में आ गई थी. मगर कुछ समय बीता ही था कि सचिन पायलट ने एक बार फिर से कांग्रेस की सरकार पर अपना भरोसा जताया और उन्होंने सारे गिले-शिकवे भूलकर अशोक गहलोत का समर्थन किए जाने के संकेत दे दिए.

कांग्रेस से बागी होने के बाद सचिन पायलट ने कांग्रेस के आगे अपनी कुछ शर्तें रखी थी. जिसके बाद पायलट ने कांग्रेस आलाकमान के साथ मुलाकात की और अपने बागी तेवरों को दरकिनार करते हुए कांग्रेस के साथ खड़े होने का दोबारा मन बना लिया. बागी हुए सचिन पायलट की मांगों की सुनवाई करते हुए राजस्थान सरकार ने तीन सदस्य कमेटी का गठन किया. टीम में कमेटी के अहमद पटेल, केसी वेणुगोपाल और अजय माकन शामिल है. अजय माकन को राजस्थान का जनरल सेक्रेटरी बनाया गया है. कांग्रेस सरकार द्वारा अजय माकन को तीन सदस्यीय कमेटी में नियुक्त किए जाने पर पायलट ने कांग्रेस का आभार जताया और कहा कि राजस्थान में समन्वय स्थापित करने के लिए अहमद पटेल, केसी वेणुगोपाल और अजय माकन के रूप में तीन सदस्यीय जो कमेटी कांग्रेस ने नियुक्त की है उस पर मुझे पूरा विश्वास है.

उन्होंने कहा कि कांग्रेस की सरकार में उन्हें जो मार्गदर्शन मिला है वह राजस्थान की सरकार से उन्हें तथा संगठन को एक नई दिशा प्रदान करेगा. इसके अलावा उन्होंने अशोक गहलोत की सरकार की तारीफ भी की और कहा कि कांग्रेस ने अशोक गहलोत को जो जिम्मेदारी सौंपी है उसमें राजस्थान में सबसे अधिक काम हुआ है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें