नो स्कूल-नो फीस : जयपुर के अभिभावकों का धरना पांचवे दिन भी जारी

Smart News Team, Last updated: 05/12/2020 10:21 PM IST
  • शहीद स्मारक स्थल, गवर्नमेंट हॉस्टल पर बड़ी संख्या में अभिभावक एकजुट हुए. इसमें जयपुर में संचालित सभी अभिभावक संगठन एक मंच पर आए. शनिवार को पूर्व विधायक अमराराम चौधरी, उदयपुर बार एसोसिएशन, उदयपुर अधिवक्ता अभिभावक संघ सहित सभी माहेश्वरी स्कूलों की पेरेंट्स एसो. का भी साथ अभिभावक संघ को प्राप्त हुआ.
जयपुर के शहीद स्मारक स्थल पर धरने पर बैठे अभिभावक

जयपुर. संयुक्त अभिभावक संघ का स्कूल फीस मुद्दे पर चल रहा धरना लगातार पांचवे दिन भी जारी रहा. शहीद स्मारक स्थल, गवर्नमेंट हॉस्टल पर बड़ी संख्या में अभिभावक एकजुट हुए. इसमें जयपुर में संचालित सभी अभिभावक संगठन एक मंच पर आए. शनिवार को पूर्व विधायक अमराराम चौधरी, उदयपुर बार एसोसिएशन, उदयपुर अधिवक्ता अभिभावक संघ सहित सभी माहेश्वरी स्कूलों की पेरेंट्स एसोसिएशन का भी साथ संयुक्त अभिभावक संघ को प्राप्त हुआ. 

धरना स्थल पर हरीश कुमार सुहालका संयोजक राजस्थान अभिभावक संघ (उदयपुर), पुनीत शर्मा अध्यक्ष आल महेश्वरी स्कूल पेरेंट्स एसोसिएशन, अध्यक्ष अरविंद अग्रवाल, कोषाध्यक्ष सर्वेश मिश्रा, लीगल सेल अध्यक्ष अमित छंगाणी, मुख्य प्रवक्ता मनीष विजयवर्गीय, प्रवक्ता अभिषेक जैन बिट्टू, सदस्य संजय शर्मा, विकास अग्रवाल सहित अन्य अभिभावक उपस्थित रहे. महामंत्री संजय गोयल और संगठन मंत्री चंद्रमोहन गुप्ता ने बताया कि देश हो प्रदेश सभी जगह शिक्षा का मजाक बनाकर रखा है. जिसकी जैसी सत्ता होती है, वह शिक्षा को उसी प्रकार थोपते हैं, जबकि वर्तमान दौर में कोरोना महामारी अपने विकराल स्वरूप में है. 

किसान सच्चाई जानें और अपना आंदोलन खत्म करें : अलका गुर्जर

राजस्थान सरकार अभिभावकों और बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ करते हुए निजी स्कूल संचालकों को संरक्षण देते हुए निजी स्कूलों को खोलने की योजना बना रही है. ताकि स्कूल संचालक अभिभावकों को प्रताड़ित कर उनसे फीस वसूल सकें. एक तरफ दिल्ली राज्य है जिसने जब तक वैक्सीन नहीं तब तक स्कूल नहीं की घोषणा की है. दूसरी तरफ मध्य प्रदेश राज्य है जहां कक्षा 1 से 8 तक के स्कूलों को 31 मार्च तक बंद करने का एलान कर दिया गया है. वहीं, राजस्थान सरकार है जो अभी तक कक्षा 1 से 8 तक बच्चों के लिए केवल सिलेबस डिसाइड करने में जुटी है, जिससे स्कूल संचालकों को संरक्षण दिया जा सके.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें