हज़ार साल पुराने पन्ना मीना के कुंड में है 1800 सीढ़ियां, जानें कैसे हुआ निर्माण

Smart News Team, Last updated: Sat, 17th Jul 2021, 12:02 PM IST
  • पन्ना मीना के कुंड की गहराई 200 फीट है. 8 मंजिला इस बावड़ी में करीब 1800 सीढ़िया हैं. इस कुंड में कालीन कारिगरी का खूबसूरत नमूना देखने को मिलता है. यहां की सुंदरता पर्यटकों का मन मोह लेती है.
राजस्थान की लोकप्रिय बावड़ियों में से एक 'पन्ना मीना का कुंड' की खूबसूरती और वास्तुकला को देखने के लिए दूर-दूर से लोग यहां पर आता हैं. (Credit: Jaipur Tourism Official Site)

राजस्थान की लोकप्रिय बावड़ियों में से एक 'पन्ना मीना का कुंड' की खूबसूरती और वास्तुकला को देखने के लिए दूर-दूर से लोग यहां पर आता हैं. चौकोर आकार के इस कुंड में चारों तरफ सीढ़ियां हैं. यह कुंड न केवल इतिहास प्रेमियों बल्कि आज की युवा पीढ़ी के बीच भी बेहद पॉपुलर है. आमेर किले के पास स्थित 'पन्ना मीना का कुंड' करीब 200 फीट गहरा है. पहले यह कुंड लोगों के लिए पानी का मुख्य स्त्रोत हुआ करता था. हालांकि, अब यह लोगों का पसंदीदा पिकनिक स्पॉट बन गया है.

पन्ना मीना कुंड का इतिहास: पन्ना मीना के कुंड को लेकर कई कथाएं प्रचलित हैं. उनमें से ही एक है कि इस बावड़ी का निर्माण करीब एक हजार साल पहले मीणा राजवंश के लोगों ने करवाया था. पन्ना मीणा एक महान योद्धा थे, उन्हें आमेर के राजा ने धोखे से मारकर यहां पर अपना राज स्थापित किया था. यह बावड़ी पन्ना मीणा के पतन की कहानी भी बयां करती है.

इस बावड़ी का निर्माण करीब एक हजार साल पहले मीणा राजवंश के लोगों ने करवाया था.(Credit: Jaipur Tourism Official Site)

इसके अलावा एक और कहानी प्रचिलत है. इसके तहत इस बावड़ी का निर्माण महाराज जयसिंह के शासन काल में करवाया गया था. बताया जाता है कि महाराज जयसिंह के दरबार में पन्ना मीणा नाम का एक बेहद ही ईमानदार सेवक हुआ करता था. उसकी सेवा-भाव से प्रसन्न होकर ही महाराज ने इस कुंड का निर्माण करवाया था.

8 मंजिल बावड़ी में 1800 सीढ़ियां: पन्ना मीना के कुंड की गहराई 200 फीट है. 8 मंजिला इस बावड़ी में करीब 1800 सीढ़िया हैं. इस कुंड में कालीन कारिगरी का खूबसूरत नमूना देखने को मिलता है. यहां की सुंदरता पर्यटकों का मन मोह लेती है.

 

इसके तहत इस बावड़ी का निर्माण महाराज जयसिंह के शासन काल में करवाया गया था.(Credit: Jaipur Tourism Official Site)

दिल्ली से जयपुर: दिल्ली से जयपुर की दूरी करीब 294 किलोमीटर है. आप बस, ट्रेन या फिर फ्लाइट से जयपुर तक का सफर तय कर सकते हैं. बस के रास्ते दिल्ली से जयपुर पहुंचने में केवल 4 घंटे 53 मिनट का समय लगता है. वहीं अगर आप ट्रेन से सफर करना चाहते हैं तो इसमें केवल 5 घंटे 15 मिनट का समय लगेगा. फ्लाइट से केवल डेढ़ घंटे में आप दिल्ली से जयपुर पहुंच सकते हैं.

 

पन्ना मीना के कुंड की गहराई 200 फीट है. 8 मंजिला इस बावड़ी में करीब 1800 सीढ़िया हैं.(Credit: Jaipur Tourism Official Site)

जयपुर रेलवे स्टेशन से यह बावड़ी 11 किलोमीटर और बड़ी चौपड़ मेट्रो स्टेशन से 9.2 किलोमीटर दूर है. 'जयगढ़ के किले' और 'आमेर किले' के बीच में स्थित इस बावड़ी तक पहुंचने के लिए आप ऑटो या फिर कैब कर सकते हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें