जयपुर में सामान्य से तीन गुना जहरीली हुई हवा, अस्थमा अटैक का बढ़ा खतरा

Smart News Team, Last updated: 01/11/2020 02:42 PM IST
  • जयपुर में दिवाली से दो हफ्ते पहले ही यहां की हवा जहरीली हो गयी है. बताया जा रहा है कि जयपुर में प्रदूषण का लेवल अभी से ही आरेंज कैटेगरी में पहुंच गया. यह स्तर कोविड मरीजों के साथ-साथ अस्थमा के मरीजों के लिए भी जानलेवा साबित हो सकता है.
जयपुर में प्रदूषण का स्तर अपने खतरनाक स्तर पर पहुंच गया है

जयपुर: राजस्थान की राजधानी जयपुर में प्रदूषण का स्तर अपने खतरनाक स्तर पर पहुंच गया है. दिवाली के दो हफ्ते पहले ही यहां की हवा और भी जहरीली हो गयी है. बताया जा रहा है कि जयपुर में प्रदूषण का लेवल अभी से ही आरेंज कैटेगरी में पहुंच गया. बीते शनिवार को यहां एयर क्वालिटी इंडेक्स यानि एक्यूआई लेवल औसत 283 तक रहा. राजधानी में प्रदूषण का यह स्तर कोविड मरीजों के साथ-साथ अस्थमा के मरीजों के लिए भी जानलेवा साबित हो सकता है.

जयपुर में प्रदूषण के कारण चारों और केवल धुआं ही धुआं छाया रहता है. बता दें कि यह पहली बार नहीं है जब प्रदूषण का स्तर राजधानी में बढ़ा हो. इस साल जनवरी से अक्टूबर तक आठ बार एक्यूआई लेवल 200 से ऊपर गया. हालांकि, लॉकडाउन के दौरान एक्यूआई लेवल 100 से भी नीचे रहा, लेकिन तापमान गिरने और हवा की रफ्तार कम होने से प्रदूषण का स्तर बढ़ रहा है. बीते शनिवार को जयपुर में पीएम 10 का औसत स्तर 283 तक रहा, जो कि पॉल्यूशन के हिसाब से सबसे प्रदूषित दिन रहा.

केंद्र सरकार के कृषि कानून के खिलाफ सरकार लाएगी विधेयक

जयपुर के आदर्श नगर जहां पीएम का लेवल 287 रहा तो वहीं पुलिस कमिश्नरेट में इसका स्तर 290 और शास्त्रीनगर में एक्यूआई 280 दर्ज किया गया. वहीं, दो दिन पहले यह स्तर 189 था. राजधानी में प्रदूषण का यह बढ़ता स्तर बुजुर्ग, कार्डियक और सीओपीडी के मरीजों के लिए काफी जानलेवा साबित होगा. एक्सपर्ट के मुताबिक आने वाले दिनों में इन लोगों के लिए खतरा 70 से 80 फीसदी तक बढ़ जाएगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें