Holika Dahan: होलिका दहन के लिए सिर्फ 1 घंटा 10 मिनट शुभ मुहूर्त, जानें क्या है कारण

Pallawi Kumari, Last updated: Mon, 7th Mar 2022, 5:04 PM IST
  • हर साल होली से एक दिन पहले होलिका दहन किया जाता है है. इस साल होली 18 मार्च और होलिका दहन 17 मार्च को है. होलिका दहन को बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप में मनाया जाता है. इस बार होलिका दहन के लिए शुभ मुहूर्त रात 9:06 से 10:16 तक यानी 1 घंटा 10 मिनट रहेगा.
होलिका दहन (फोटो -सोशल मीडिया)

होली का पर्व फाल्गुन मास की पूर्णिमा तिथि के दिन मनाई जाती है. होली से ठीक एक दिन पहले होलिका दहन किया जाता है. लेकिन इस साल 2022 होली और होलिका दहन की तिथि को लेकर लोगों के बीच कंफ्यूजन है. पंचागों के अनुसार होली 18 मार्च को है और उदया तिथि में प्रतिपदा के अनुसार होली 19 मार्च को पड़ रही है. ऐसे में होलिका दहन कब किया जाएगा और इसका क्या मुहूर्त होगा इसे लेकर लोग असमंजय में हैं. लेकिन ज्योतिष के अनुसार होलिका दहन 17 मार्च को ही की जाएगी. इसके लिए सिर्फ 1 घंटा 10 मिनट ही शुभ मुहूर्त होगा.

ज्योतिष की माने तो भद्रा रहित प्रदोष व्यापिनी पूर्णिमा तिथि होलिका दहन के लिए उत्तम मानी जाती है. भद्रा मुख में होलिका दहन नहीं करनी चाहिए. वहीं 17 मार्च को पूर्णिमा दोपहर 1:29 से शुरू हो रही है जो अगले दिन 12:47 तक रहेगी. इस बीच 17 मार्च को भद्रा दोपहर 1:29 बजे से शुरू होकर रात्रि 1:12 तक रहेगा. पुंछकाल रात्रि 9:06 से रात्रि 10:16 तक और भद्रा मुखकाल रात्रि 10;16 से रात्रि 12:13 तक रहेगी.

Grahan 2022: सूर्य ग्रहण के 15 दिन बाद लगेगा साल का पहला चंद्र ग्रहण, क्या कहते हैं ज्योतिष

क्या कहता है धर्मसिन्धु ग्रंथ- धर्मसिन्धु ग्रंथ के अनुसार भद्रा सुख में होलिका दहन कभी भी नहीं करना चाहिए. लेकिन भद्रा मध्य रात्रि तक व्याप्त हो तो ऐसी स्थिति में भद्रा पूंछ के दौरान होलिका दहन किया जा सकता है. भद्रा पूंछकाल 17 मार्च को रात 9:06 से रात 10:16 तक ही रहेगा. इसलिए होलिका दहन के लिए केवल 1 घंटा 10 मिनट की शुभ मुहूर्त होगा. ऐसे में होलिका दहन का त्योहार गुरुवार 17 मार्च और होली शुक्रवार 18 मार्च को मनाई जाएगी.

Phulera Dooj 2022: ब्रज में कल मनेगी होली, राधा-कृष्ण से जुड़ी है फुलेरा दूज की कथा

 

अन्य खबरें