IPL से पहले क्रिकेट मैच सट्टा गैंग के 6 गिरफ्तार, नोट गिनती मशीन, 93 लाख जब्त

Smart News Team, Last updated: 12/09/2020 04:10 PM IST
  • आईपीएल से पहले कानपुर के क्रिकेट पर सट्टा लगाने वाले गिरोह का भंडाफोड़ हुआ है. इसमें पुलिस ने 6 को गिरफ्तार किया और 93 लाख रुपये कैश बरामद किया. साथ ही नेपाल करंसी के 27 हजार रुपए भी पुलिस ने बरामद किए. 
IPL से पहले क्रिकेट मैच सट्टा गैंग के 6 गिरफ्तार, नोट गिनती मशीन, 93 लाख जब्त

कानपुर. आईपीएल से कुछ दिन पहले कानपुर पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है. शुक्रवार को पुलिस ने क्रिकेट पर सट्टा लगाने वाले गिरोह का भंडाफोड़ किया. इस छापेमारी में क्रिकेट पर सट्टा लगाने वाले गैंग के छह सदस्यों को गिरफ्तार किया और इनके पास से 93.72 लाख रुपए कैश, 27 हजार की नेपाली करंसी और नोट गिनने की मशीन भी बरामद की है. इसके अलावा 11 मोबाइल फोन 1 लैपटॉप और रजिस्टर भी बरामद हुए. हालांकि पुलिस एस गैंग के सरगना को गिरफ्तार नहीं कर पाई है. 

सरगना समेत इस गैंग के दो और सदस्य फरार हैं. गिरफ्तार में से एक विकास दुबे के खास गुर्गे जय बाजपेई के साथ मिलकर बीसी और कमेटी खिलवाता था. गिरफ्तार होने वालों में कौशलपुरी निवासी हरप्रीत सिंह बेदी, रीशू अरोड़ा, सरोजनी नगर निवासी विनोद कुमार छाबड़ा, दर्शनपुरवा निवासी इशान भाटिया, पांडुनगर निवासी रीजक सिंह और आजाद नगर निवासी गुरमीत सिंह शामिल हैं.  इनके अलावा इस गिरोह का सरगना सोनू सरदार जो जयपुर में बैठकर गैंग ऑपरेट करता है. रंजीत उर्फ रिंकू निवासी कौशलपुरी व एक अन्य आरोपी फरार है.

गायत्री प्रजापति को जेल भिजवाने वाली महिला ने एक और नेता पर लगाए गंभीर आरोप

डीआईजी डा. प्रीतिन्दर सिंह ने बताया कि पुलिस को कई दिनों से शहर में क्रिकेट को लेकर बड़ा सट्टा खिलवाए जाने की सूचना मिल रही थी. इस गैंग का भांडाफोड़ करने के लिए एसपी पश्चिमी डा. अनिल कुमार, एसपी साउथ दीपक भूकर और ट्रेनी आईपीएस अजय जैन के नेतृत्व में टीम गठित कर नजीराबाद, फजलगंज और काकादेव क्षेत्र में छापेमारी की. 

कानपुर: ठेकेदार से लड़ रहे फौजी ने महिला वार्ड पार्षद को पीटा, पिस्तौल तानी, केस

डीआईजी ने बताया कि आरोपियों से पूछताछ जारी है. पता चला है कि ये मोबाइल एप के जरिए सट्टा खिलवाते थे. इनके मोबाइल और लैपटॉप पर क्रिकेट मजा 11, स्काई एक्सचेंज, क्रिकेट लाइन गुरू समेत आधा दर्जन एप और वेबसाइट मौजूद हैं. ये विकेट लॉस, ओवर्स, फास्टेस्ट हंड्रेड, कितने विकेट गिरेंगे, मैच कौन जीतेगा इन बिन्दुओं पर सट्टा लगवाते थे. सट्टे का भाव पूरे मैच के दौरान कई बार बदलता था. मैच खत्म होने के बाद हरप्रीत सिंह बेदी के घर से पैसे का डिस्ट्रिब्यूशन शुरू होता था जो सोनू सरदार के सम्पर्क में भी रहता था.

कानपुर में लव जिहाद का एक और केस, रमन बोलकर दोस्ती, अफजल बोलकर शादी

व्हाट्स एप, रजिस्टर और पर्चियों के माध्यम से सट्टा लगता था. पुलिस को बरामद रजिस्टर में कई कॉनटेक्ट मिले. गिरोह द्वारा जीता गया पैसा कार के माध्यम से जयपुर में सोनू सरदार तक पहुंचाया जाता था. उसके श्रीलंका और नेपाल के कसीनो में भी लिंक के बारे में पुलिस को जानकारी मिली है. वहीं गिरफ्तार करने वाली टीम को 25 हजार का इनाम दिया गया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें