UP पंचायत चुनाव में अपनी किस्मत अजमाने उतरीं 81 साल की दादी रानी, नामांकन भरा

Smart News Team, Last updated: Sat, 3rd Apr 2021, 9:16 PM IST
  • विकास के वादे कर चुनाव जीतने वाले प्रत्याशी जीत हासिल करने के बाद सब भूल जाते हैं. ऐसे लोगों के लिए 81 वर्षीय रानी जो रूद्रपुरवैल गांव की रहने वाली सबक है. उसके गांव में बुनियादी सुविधाएं भी उपलब्ध नहीं है और गांववासियों को परेशानियों से निजात दिलाने को अब उसने पंचायती चुनाव में नामांकन किया है.
पंचायत चुनावों में नामांकन करने वाली 81 वर्षीय रानी

कानपुर. पंचायत चुनाव में कई लोग अपनी किस्मत आजमा रहे है, लेकिन कानपुर में एक 81 वर्षीय महिला चर्चा का विषय बनी हुई है. दरअसल इस पंचायत चुनाव में वो अपनी किस्मत आजमाने के लिए चुनावी मैदान में उतर चुकी हैं. अपने नाती के साथ लड़खड़ाते कदमों के साथ वह अपना नामांकन कराने पहुंची इस 81 वर्षीय महिला का नाम रानी है. रानी के कदम जरूर लड़खड़ा रहे हैं लेकिन उनकी उम्मीद और उत्साह देखकर आप भी दंग रह जाएंगे. रानी चौबेपुर जिला पंचायत सदस्य के लिए अपना नामांकन करा रही है.

पंचायत चुनावों में नामांकन करने वाली 81 वर्षीय रानी रूद्रपुरवैल गांव की रहने वाली है. उसके गांव में गंदे पानी की निकासी के लिए ना तो नाली है और ना ही पक्की सड़क. पानी निकासी ना होने की वजह से गांव के लोग बीमार हो जाते हैं. गांव वालों की इस समस्या को देखते हुए 81 वर्षीय रानी खुद चुनाव मैदान में उतर चुकी है. उनका कहना है कि अगर वो चुनाव जीतेंगी तो अपने गांव की सभी समस्याओं से ग्रामीणों को निजात दिलवा देंगी.

कानपुर बालिका संरक्षण गृह में 13 लड़कियां कोरोना संक्रमित

हालाँकि मतदान के बाद जब वोटों का पिटारा खुलेगा. तब रानी के भाग्य का फैसला होगा, लेकिन जो लोग विकास कार्य के नाम पर जनता से वोट मांगते हैं और चुनाव जीतकर जनता की समस्याओं को नजरअंदाज करते हैं. उनको रानी से सबक लेने की जरूरत है. बड़े बड़े वादे करने वाले प्रत्याशियों के लिए उसका चुनाव मैदान में उतरना संदेश देता है कि जमीनी तौर पर विकास के नाम पर कुछ नहीं किया जाता है, विकास के नाम पर वादे करके प्रत्याशी वोट तो बटोर कर जीत तो हासिल कर लेते हैं लेकिन काम सिर्फ कागजों में और जुबानी होता है.  

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें