कानपुर में AQI खतरनाक स्तर पर, जहरीली हवा में सांस लेना हुआ दूभर

ABHINAV AZAD, Last updated: Sun, 28th Nov 2021, 2:32 PM IST
  • कानपुर की आबोहवा लगातार जहरीली होती जा रही है. रविवार को आईआईटी, एनएसआई और जवाहर नगर इलाकों में AQI खतरनाक लेवल को पार कर गया. नेहरू नगर में सुबह नौ बजे AQI 309 था, जो दोपहर 11 बजे बढ़कर 311 हो गया.
(प्रतीकात्मक फोटो)

कानपुर. शहर की आबोहवा दिन-प्रतिदिन जहरीली होती जा रही है. मौसम में बदलाव के चलते कानपुर का प्रदूषण कम होने का नाम नहीं ले रहा है. रविवार के दिन भी शहर की हवा सेहत बिगाड़ने वाली रही. खास तौर पर आईआईटी, एनएसआई और जवाहर नगर के क्षेत्रों में हवा खतरनाक स्तर पर पहुंच गई. रविवार सुबह ग्यारह बजे तक इसमें कोई खास सुधार नहीं हुआ. वहीं आईआईटी क्षेत्र का एयर क्वॉलिटी इंडेक्स 359 पर पहुंच गया. धूल-धुआं और खतरनाक गैसों के गुबार से कानपुर की आबोहवा बद से बदतर होती जा रही है.

जानकार बताते हैं कि जब तक हवा की दिशा गति के साथ उत्तर पश्चिमी नहीं होगी, तब तक हालात जस के तस बने रहेंगे. इस समय शहर में खुदाई चरम पर है और खुदी पड़ी सड़कों से हालात बदतर होते जा रहे हैं. पानी का छिड़काव नहीं होने और वॉटर गन के नहीं चलने से भी धूल-धुआं एक्यूआई को मानक से सात गुना पर पहुंचा रहा है. रविवार सुबह नौ बजे आईआईटी क्षेत्र का एक्यूआई 359 था जो सुबह 11 बजे मामूली सुधार के बाद 354 पर पहुंच गया. जबकि 300 के ऊपर के एक्यूआई को रेड जोन में माना जाता है.

Video: कानपुर के VSSD कॉलेज में दिखा तेंदुआ, कैंपस पहुंची वन विभाग की टीम

वहीं नेहरू नगर की स्थिति भी बेहद खराब है. नेहरू नगर में सुबह नौ बजे एक्यूआई 309 था, जो दोपहर 11 बजे बढ़कर 311 हो गया. जबकि एनएसआई का एक्यूआई 272 और किदवई नगर का 232 रहा. नगर में एनओ-2 बढ़ने की वजह कूड़ा जलाना माना जाता है. इसकी मात्रा लगातार बढ़ती जा रही है. मानक 80 के विपरीत सुबह 11 बजे इसकी अधिकतम मात्रा नेहरू नगर में 275 पर पहुंच गई. यह मानक से तीन गुना से अधिक है. अन्य गैसों की मात्रा भी बढ़ी है, लेकिन सामान्य ढंग से. कार्बन मोनोऑक्साइड की स्थिति भी गंभीर है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें