राजनाथ सिंह के कानपुर आगमन से पहले गंदे पानी में बैठी महिला पार्षद, जानें वजह

Smart News Team, Last updated: Fri, 2nd Jul 2021, 3:01 PM IST
  • रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के कानपुर आगमन से पहले एक महिला पार्षद ने अपने पूर्व पार्षद पति के साथ गंदे पानी में बैठकर धरना दिया. पार्षद ने बताया कि वार्ड 26 में जीटी रोड पर त्रिमूर्ति मंदिर से लेकर गांधीग्राम तक सीवर लाइन चोक है. जिसकी शिकायत करने के बाद भी विभाग की ओर से कोई सुनवाई नहीं की जाती है.
सीवर सफाई को लेकर गंदे पानी में धरने पर बैठी महिला पार्षद (फाइल फोटो)

कानपुर. गांधीग्राम के वार्ड 26 में जीटी रोड पर त्रिमूर्ति मंदिर से गांधीग्राम गेट तक सीवर लाइन की पिछले तीन साल से सफाई न होने के कारण चोक है. इस मुद्दे पर महिला पार्षद विजय लक्ष्मी यादव अपने पति के साथ रक्षा मंत्री के नगर आगमन से पहले गंदे पानी में धरने पर बैठ गईं. बताया गया कि राजनाथ सिंह अपनी गुरू माता जिनका लंबी बीमारी के कारण देहांत हुआ है, उनको श्रद्धांजलि देने के लिए श्यामनगर के हरिहर धाम आ रहे हैं.

क्षेत्रीय पार्षद विजय लक्ष्मी का कहना है कि त्रिमूर्ति मंदिर से गांधीग्राम गेट तक पिछले तीन साल से सीवर लाइन चोक है. जिसके कारण हर समय वहां पर पानी भरा रहता है. कई बार शिकायतों के बाद भी विभाग की ओर से कोई कार्यवाही नहीं की जाती है. जबकि इस मामले के संबंध में कैबिनेट मंत्री से लेकर मंत्री, महापौर, नगर आयुक्त सहित विभाग के कई अधिकारियों को अवगत कराया जा चुका है. वहीं पार्षद ने बताया कि हाल ही में निगम के सदन में भी पार्षद के समस्या का समाधान न होने पर इच्छा मृत्यु की मांग की थी. लेकिन फिर भी समस्या का किसी प्रकार से कोई समाधान नहीं किया गया है.

ईदगाह बस स्टैंड से एक्सप्रेस-वे होकर लखनऊ के लिए हर घंटे पर मिलेगी बस

केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह अपनी गुरू माता को श्रद्धांजलि देने के लिए कानपुर आ रहे हैं. क्योंकि बीते दिनों श्यामनगर के हरिधाम में रहने वाली गुरू माता का लंबी बीमारी के कारण निधन हो गया था. इसी कारण प्रशासन की ओर से सड़कों की सफाई व पानी को हटाया जा रहा है. लेकिन सीवर की गंदगी जस की तस बनी हुई है. इस मामले में धरने पर बैठे पार्षद पति मनोज यादव का कहना है कि जलकल विभाग रूट पर जमे पानी को तो हटा रहा है. लेकिन सीवर की सुध नहीं ले रहा है. जिसके कारण लोगों को भारी परेशानी का समाना करना पड़ता है. इन्हीं सभी मांगों को लेकर उन्हें धरना देने को मजबूर होना पड़ा है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें