किसान आंदोलन के समर्थन में भाकियू ने हाइवे जाम करने की कोशिश की

Smart News Team, Last updated: 27/11/2020 09:30 PM IST
  • कानपुर में किसानों ने हरियाणा और पंजाब के किसानों को दिल्ली बॉर्डर पर रोके जाने और 3 नये कृषि कानूनों के विरोध में प्रदर्शन कर हाईवे जाम करने कि कोशिश कि, लेकिन पुलिस ने उनको दिल्ली के बुराड़ी के निरंकारी ग्राउंड में जाने की इजाजत दी है.
किसान आंदोलन के समर्थन में उतरा भाकियू

कानपुर: भारतीय किसान यूनियन (टिकैत गुट) के जिलाध्यक्ष रवि प्रताप सिंह की अगुवाई में किसानों ने रामादेवी फ्लाई ओवर पर किसान आंदोलन के समर्थन में जाम लगाने का प्रयास किया. सूचना पर पहुंची पुलिस ने हाइवे पर बैठे किसान नेताओं को समझाकर हटा दिया. भाकियू ने कृषि बिल और हरियाणा में किसानो को दिल्ली जाने से रोकने का विरोध किया.

कानपुर: बंदरो के आतंक से परेशान रेल कर्मी, बिना हरी झंडी दिखाए गुजर रहीं ट्रेनें

भाकियू (टिकैत गुट) के जिलाध्यक्ष रवि प्रताप सिंह की अगुवाई में कार्यकर्ता रामादेवी फ्लाई ओवर पहुंचे. जहां पर कार्यकर्ताओ ने सड़क पर बैठकर रामादेवी से जाजमऊ की तरफ जाने वाली लेन पर जाम लगा दिया. साथ ही नारेबाजी भी शुरू कर दी. सूचना पाकर मौके पर पुलिस समेत पीएसी भी पहुंच गई. जिसके बाद पुलिस ने कार्यकर्ताओं को शांत कराकर सड़क से उठवाया. करीब आधे घण्टे तक जाजमऊ जाने वाली लेन पर जाम लगा रहा.

कानपुर:पत्नी गई मायके तो गम में डूबा पति, काट डाला अपना प्राइवेट पार्ट और फिर...

इस दौरान भाकियू जिलाध्यक्ष रवि प्रताप सिंह ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा किसान बिल गरीब किसानों पर जबरन थोपा जा रहा है. जिससे किसान बर्बाद हो जाएगा. जब संगठन इसके खिलाफ आंदोलन कर रहा है तो सरकार उन्हें दिल्ली जाने से रोक रही है. जिसके विरोध में प्रदर्शन किया गया है. लेकिन समाचार लिखे जाने तक किसानों को दिल्ली में प्रवेश करने की इजाजत मिल गई है.

कानपुर सर्राफा बाजार में सोना चांदी के भाव में आया उछाल, क्या है आज का मंडी भाव

पेट्रोल डीजल आज 27 नवंबर का रेट: लखनऊ, कानपुर, वाराणसी, मेरठ, गोरखपुर में तेल का दाम बढ़ा

26 नवंबर: लखनऊ, कानपुर, वाराणसी, मेरठ, गोरखपुर में पेट्रोल डीजल के नहीं बढ़े दाम

UP में केंद्र के आदेश पर योगी सरकार सौ साल पुराने नियम-कानून करेगी खत्म

लखनऊ: सीरो सर्वे में मिले 22.1 फीसदी लोगों में मिली एंटीबॉडी, 11 जिलों हुआ सर्वे

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें