बिकरू कांडः विकास दुबे को गाड़ी देकर भागने का 25 हजार इनामी आरोपी अभिषेक अरेस्ट

Shubham Bajpai, Last updated: Sat, 18th Dec 2021, 1:20 PM IST
  • बिकरू कांड का मुख्य आरोपी विकास दुबे के 25 हजार इनामी सहयोगी अभिषेक उर्फ छोटू को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस काफी समय से छोटू की तलाश कर रही थी. छोटू पर आरोप है कि बिकरू कांड के बाद विकास और उसके साथियों को भागने में छोटू ने ही मदद की थी.
बिकरू कांडः विकास दुबे को गाड़ी देकर भागने का 25 हजार इनामी आरोपी अभिषेक अरेस्ट (फाइल फोटो)

कानपुर. बिकरू कांड में कानपुर के पनकी थाने के पुलिस को बड़ी सफलता मिली है. पनकी पुलिस ने बिकरू कांड के मुख्य आरोपी विकास दुबे को भागने के लिए गाड़ी मुहैया कराने के आरोपी अभिषेक उर्फ छोटू को गिरफ्तार कर लिया. पुलिस ने दाबिश के दौरान अभिषेक को गिरफ्तार किया. इस पर 25 हजार रुपये का इनाम भी घोषित है.

शिवली इलाके से किया गिरफ्तार

पुलिस लगातार अभिषेक की पकड़ के लिए छापेमारी कर रही थी. इस दौरान 25 हजार इनामी अभिषेक को पकड़ने पनकी पुलिस की टीम ने शिवाली इलाके में दाबिश दी. इस दौरान पुलिस ने काफी मशक्कत के बाद इसे गिरफ्तार कर लिया.

कानपुर बार एसोसिएशन चुनाव कैंसिल, गोली चली, वकील घायल, दोबारा होगा मतदान

जीजा के कहने पर विकास और उसके साथियों को दी थी कार

बिकरू कांड के बाद विकास दुबे जब अपने साथियों के साथ भागा था. तब उसको गाड़ियां और असलहे मुहैया कराने का आरोप अभिषेक है. बिकरू कांड के बाद से अभिषेक फरार था. जानकारी अनुसार, अभिषेक ने अपने जीजा के कहने पर विकास दुबे, अमर दुबे और प्रभात मिश्रा को अपने पिता की गाड़ी से भगा दिया था.

गिरफ्तार कर आरोपी को भेज दिया जेल

इस मामले में पनकी इंस्पेक्टर अंजन कुमार सिंह ने बताया कि शिवली इलाके में दाबिश देकर आरोपी अभिषेक को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. सारी कागजी कार्रवाई पूरी करके आरोपी को जेल भेज दिया है.

योगी सरकार ने की महिलाओं, बुजुर्गों व दिव्यांगजनो की पेंशन दोगुनी, ऐसे करें आवेदन

बता दें कि 2 जुलाई 2020 को आधी रात को बिकरू गांव में गैंगस्टर विकास दुबे और उसके साथियों ने डीएसपी और एसओ समेत 8 पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी थी. इस घटना में आरोपियों ने एक-एक पुलिसकर्मी को दर्जनों गोलियां मारी थीं. इस मामले में पुलिस ने कार्रवाई करते हुए आठ दिन के भीतर विकास दुबे समेत उसके 6 साथियों को एनकाउंटर में ढेर कर दिया.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें