कानपुर: बीजेपी और सपा नेता भिड़े, कार्यकर्ताओं ने थाने का घेराव कर जमकर किया हंगामा

Smart News Team, Last updated: Wed, 3rd Feb 2021, 7:44 AM IST
  • कानपुर के बर्रा थाने में बीजेपी और सपा नेता भिड़ गए. दोनों पक्ष के कार्यकर्ताओं ने थाने का घेराव करने के बाद जमकर हंगामा किया. दो चौकी प्रभारियों के साथ हाथापाई भी की. थाने में दोनों पक्षों की तरफ से तहरीर दी गई है. 
कानपुर में बर्रा थाने में बीजेपी और सपा नेता भिड़ गए. दोनों पक्ष के लोगों ने थाने का घेराव करने के बाद जमकर हंगामा किया.

कानपुर. कानपुर में कार ओवरटेक को लेकर मंगलवार देर रात बीजेपी और सपा नेता भिड़ गए. दोनों पक्षों की तरफ से करीब 400 लोगों ने थाने का घेराव करने के बाद जमकर हंगामा किया. बर्रा थाना के दो चौकी प्रभारियों के साथ हाथापाई भी की. मामला बढ़ता देख सूचना के बाद नौबस्ता थाने की पुलिस फोर्स मौके पर पहुंच गई. इसके बाद मामला शांत हुआ. मिली जानकारी के अनुसार दोनों पक्षों ने एक-दूसरे के खिलाफ बर्रा थाने में तहरीर दी है. पुलिस ने बताया कि दोनों पक्षों की तहरीर के आधार पर केस दर्ज किया जाएगा.

आई ब्लाक विश्वबैंक बर्रा निवासी बीजेपी नेता व मनोनीत पार्षद आलोक मिश्रा मंगलवार शाम को अपनी कार से किसी काम के लिए बर्रा आठ हाईवे पर निकले थे. उनके साथ कार में अमन राजपूत, कृष्णा मिश्रा और अंकित भी थे. हाईवे पर बसंत पेट्रोल पम्प के पास पूर्व सपा पार्षद आशा सिंह के बेटे गौरव सिंह अपने दोस्तों के साथ अपनी कार में थे. बीजेपी पार्षद आलोक मिश्रा का आरोप है कि गौरव सिंह ने उनकी गाड़ी में टक्कर मारी और गाली दिया. आगे बढ़ने पर गौरव सिंह ने उनकी कार को ओवरटेक कर रोक ली और उनके साथ मारपीट भी की. गौरव सिंह पर यह भी आरोप है कि उन्होंने आलोक की जेब से 2400 रुपए लूट लिए.

खनन घोटाला: पूर्व IAS सत्येन्द्र सिंह के 9 ठिकानों पर CBI की रेड

इस घटना के बाद आलोक मिश्रा तहरीर देने के लिए बर्रा थाने पहुंचे. वहां पर कुछ देर बाद पूर्व पार्षद आशा सिंह अपने महिला समर्थकों और बेटे गौरव को लेकर पहुंच गई. कुछ देर में ही थाने पर दोनों पक्षों की तरफ से 200-200 समर्थक जुट गए और उन्होंने थाने का घेराव कर जमकर हंगामा किया. सपा पूर्व पार्षद आशा सिंह ने कहा कि आलोक मिश्रा और उनके साथियों ने बेटे गौरव सिंह से मारपीट की. उसकी सोने की चेन भी लूट ली. आशा सिंह का आरोप है कि आलोक मिश्रा की क्षेत्र में दंबगई चलती है. 

शिक्षकों को खुद करना होगा अपना मूल्यांकन, बेसिक शिक्षा विभाग ने जारी किए आदेश

सीओ गोविंद नगर दिवाकर पांडेय ने मामले को लेकर बताया कि चौकी प्रभारियों से मारपीट की बात गलत है. थाने में मौजूद भीड़ ने चौकी प्रभारियों के साथ धक्का-मुक्की की है. मामला कार ओवरटेक को लेकर है, जिसके चलते विवाद हो गया. दोनों पक्षों की तरफ से समर्थकों ने थाने में पहुंचकर हंगामा किया है. दोनों पक्षों की तरफ से तहरीर ले ली गई है. आगे की कार्रवाई की जाएगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें