कानपुर की BIC मिलें होंगी बंद, मोदी कैबिनेट ने लिया फैसला: सत्यदेव पचौरी

Smart News Team, Last updated: 27/09/2020 09:42 PM IST
  • कानपुर में भाजपा सासंद सत्यदेव पचौरी ने कानपुर की बीआइसी मिलों के कर्मचारियों के साथ मीटिंग की. सांसद ने मीटिंग में कहा कि जल्द ही कानपुर की बीआइसी मिलों को बंद कर दिया जाएगा. मिलों के कर्मचारियों को वीआरएस दिया जाएगा.
भाजपा सांसद सत्यदेव पचौरी ने कहा कि कानपुर की बीआइसी मिलें बंद होंगी.

कानपुर. कभी कानपुर की जिन मिलों से हजारों लोगों की रोजी-रोटी चलती थी वो अब बंद होने जा रही है. रविवार को कानपुर के सर्किट हाउस में बीजेपी सांसद सत्यदेव पचौरी ने बीआइसी और अन्य मिलों के यूनियन कर्मचारियों के साथ बैठक की. उन्होंने मीटिंग में कहा कि बीआईसी की सभी मिलों को बंद करने का फैसला हो चुका है. जल्द ही कैबिनेट अपना फैसला सुना देगी.

रविवार को कानपुर में बीजेपी सांसद सत्यदेव कानपुर की मिलों के कर्मचारियों और अधिकारियों से रूबरू हुए. उन्होंने बैठक में कहा कि कैबिनेट ने बीआइसी की सभी मिलों के अधिकारियों और कर्मचारियों को वीआरएस देने का फैसला किया है. कैबिनेट ने इसके लिए कैबिनेट नोट बना लिया है. अक्टूबर-नवंबर में कैबिनेट का ये फैसला आ जाएगा. कैबिनेट के फैसले के बाद इस को वित्त मंत्रालय भेज दिया जाएगा.

विकास का पहिया थाम रही है फर्रुखाबाद रेल लाइन, हटवाकर रहेंगेः सत्यदेव पचौरी

सांसद सत्यदेव पचौरी ने कहा कि  बीआइसी के करीब 900 अधिकारियों और कर्मचारियों को 250 करोड़ रुपए देना बाकी है. इसके लिए सरकार वीआरएस के तहत भुगतान करेगी. उन्होंने बताया कि पिछले डेढ़ साल से इस मुद्दे पर सरकार के खिलाफ जाकर अपनी बात रखते आए हैं. जिसे अब सरकार ने मान लिया है. 

कानपुर बीआईसी 2 महीने में बंद, लाल इमली पर ताला, कर्मचारियों को VRS देगी कंपनी

कानपुर में बीआइसी की लाल इमली और अन्य मिलों के लगभग 1 हजार कर्मचारियों की मांग है कि उन्हें 2007 से छठवां वेतनमान देकर रिटायर किया जाए जबकि अभी कर्मचारियों को तीसरे वेतनमान से पैसा मिला. सांसद ने कहा कि वे इस परेशानी को जल्द ही दूर कराएंगे. आपको बता दें कि कानपुर की बीमार मिलों को बंद करने की प्रक्रिया तीन साल से चल रही है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें