कृषि कानून पर बोले नकवी, पिटे हुए पॉलिटिकल प्लेयर्स किसानों को गुमराह कर रहे हैं

Smart News Team, Last updated: Sat, 6th Feb 2021, 6:23 PM IST
  • सरकार पर हमलावर विपक्षी नेताओं पर निशाना साधते हुए शनिवार को कहा कि ये 'पिटे हुए पॉलिटिकल प्लेयर्स' हार की हताशा में किसानों को गुमराह करने की कोशिश में लगे हैं.
कृषि कानून पर बोले नकवी, पिटे हुए पॉलिटिकल प्लेयर्स किसानों को गुमराह कर रहे हैं

कानपुर: केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ भाजपा नेता मुख्तार अब्बास नकवी ने सांसद में पास तीन कृषि कानूनों को लेकर जिसका किसान विरोध कर रहे हैं, सरकार पर हमलावर विपक्षी नेताओं पर निशाना साधते हुए शनिवार को कहा कि ये 'पिटे हुए पॉलिटिकल प्लेयर्स' हार की हताशा में किसानों को गुमराह करने की कोशिश में लगे हैं. मुख्तार अब्बास नकवी यह आरोप भी लगाया कि खेती के बारे में समझ नहीं रखने वाले किसानों के हितैशी बन गए हैं. जबकि पूरे देश के किसान इस बात से संतुष्ट हैं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आत्मनिर्भर कृषक के साथ आत्मनिर्भर कृषि बनाने के लिए काम कर रहे हैं. शनिवार को कानपुर पार्टी के कार्यक्रम में पहुंचे अल्पसंख्यक कार्य मंत्री ने कहा, ''यह पूरा मुद्दा 'आपराधिक साजिश की संदूक और किसानों के कंधे पर बंदूक का है. 

ये जो लोग किसानों के कंधें पर बंदूक रखकर घूम रहे हैं वो बिल्कुल अतार्किक बात कर रहे हैं. उन्होंने कहा, सरकार ने पूरी गारंटी दी है कि न तो न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) हटेगा, न तो मंडियां खत्म होंगी और न ही किसानों की जमीन पर किसी तरह का खतरा है. फिर भी 'मोदी बैसिंग ब्रिगेड' इस आंदोलन में आ गए हैं. इन लोगों का काम सिर्फ प्रधानमंत्री के बारे में बुरा-भला कहना है. ये लोग किसानों को गुमराह करने का प्रयास कर रहे हैं. ज्यादातर किसान इस बात को समझ गए हैं.

कानपुर : SAF बना रही आधुनिक कार्बाइन, दो हजार का ऑर्डर मिला

बताते चलें कि तीन कृषि सुधार बिलों के विरोध में पूरे देश में किसान आन्दोलनरत हैं, खासकर दिल्ली की सीमाओं पर किसनों ने गाजियाबाद में गाजीपुर बॉर्डर, दिल्ली का सिंघु बॉर्डर, और टिकरी बॉर्डर पर लगभग पिछले 74 दिनों से धरना दे रहें हैं.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें