कानपुर में रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी, दो कर्मचारी रंगे हाथ अरेस्ट

Smart News Team, Last updated: Fri, 30th Apr 2021, 9:27 PM IST
  • कानपुर क्राइम ब्रांच टीम ने हैलट अस्पताल में बतौर वार्ड ब्वॉय के पद पर कार्यरत दो कर्मचारियों को रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी करते पकड़ा है. कोरोना मरीजों को दिए जाने वाले रेमडेसिविर इंजेक्शन में कर्मचारी मरीज को इंजेक्शन का आधा डोज दिया करते थे और बाकी आधे डोज की ब्लैकमेलिंग करते थे.
रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी करते गिरफ्तार किए गए दो कर्मचारी पुलिस टीम के साथ

कानपुर. सरकारी मेडिकल विभाग में कमाई का खेल इस कदर हावी है कि अपराधियों को न तो सरकार का डर है और न ही अपने प्रशासनिक अधिकारियों की सख्ती का. जिसका ताजा सबूत है कानपुर क्राइम ब्रांच टीम की उस वक्त की कार्रवाई, जब टीम के जवानों ने हैलट हॉस्पिटल दो कर्मचारियों को वैक्सीन की कालाबाजारी करते वक्त रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया. जिसके बाद पूछताछ और मिले सबूतों के आधार पर ज्ञात हुआ कि गिरफ्तार किए गए कर्मचारी हैलट अस्पताल में बतौर वार्ड ब्याय के पद पर कार्यरत है, जो कोरोना मरीजों को दिए जाने वाले रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी करने में जुटे हुए थे.

जिसके चलते उक्त कर्मचारी मरीज को दिए जाने वाले इंजेक्शन के डोज का आधा डोज दिया करते थे. बाकी आधे डोज की ब्लैकमेलिंग करते थे. जिसके आधार पर क्राइम ब्रांच की टीम ने गिरफ्तार वार्ड ब्वॉय की निशादेही पर दो और लोगों को हिरासत में लिया है, जो हैलट अस्पताल में प्राइवेट कर्मचारी के पद पर कार्यरत थे.

कानपुर में ऑक्सीजन रिफिलिंग प्लांट पर लगा कालाबाजारी का आरोप, जानिए मामला

सरताज पाटिल, डीसीपी, कानपुर नगर के मुताबिक पकड़े गए आरोपियों से पूछताछ में मालूम हुआ हैं कि आधे इंजेक्शन की कालाबाजारी करने के दौरान वह दस हजार से बीस हजार रुपए ऐंठने का काम करते थे. खुलासे के बाद जिले के कमिश्नर असीम अरुण के निर्देशानुसार स्वरूप नगर थाने में गिरफ्तार लोगों के खिलाफ एफआईआर करके जेल भेजने की तैयारी कर ली गई है, साथ ही क्राइम ब्रांच की टीम इनके गैंग में शामिल अन्य लोगों की तलाश में जुट गई है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें